बिना रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था के रात के समय हाईवे का अंधेरे में डूबे रहना, बारिश के पानी की निकासी न हो पाना और रिहायशी क्षेत्र के मुताबिक हाईवे से एंट्री एग्जिट न मिल पाना जैसे अति महत्वपूर्ण मसले भी नगर निगम की तरफ से नजरअंदाज किए जा रहे हैं। लोगों का सीधा संपर्क पार्षद तक रहता है लेकिन वहां से उन्हें यह जवाब दिया जाता है कि हाईवे निगम के अधिकार क्षेत्र में ही नहीं है। हालांकि इससे पहले जालंधर के पूर्व डिप्टी कमिश्नर वरिंदर कुमार शर्मा की तरफ से बदहाल हाईवे की हालत सुधारने के लिए एनएचएआइ को लगातार दिशा-निर्देश जारी किए जाते रहे और हाईवे की हालत में सुधार भी करवाया गया।

खेलते खेलते बालक गटर में गिरा, डूब कर हुई मौत

अलीगढ़,जेएनएन।अतरौली कोतवालीक्षेत्रकेगांवसहनोलमेंखेलतेसमयएकबालकनिर्माणाधीनगटरमेंगिरगया।जिससेबालककीपानीमेंडूबकरमौतहोगई।बा