अजुहा : बेटों की चाह में लोग मन्नत मानते हैं। देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। नीम-हकीम से इलाज करवाते हैं। मंदिर और गुरुद्वारे की चौखट पर मत्था टेकते हैं। मजार पर चादर चढ़ाते हैं। इसके बाद भी कइयों की गोद नहीं भरती है। सिराथू तहसील क्षेत्र के शाखा गांव के मजरा ऐमापुर गांव के बाहर मंगलवार की सुबह ग्रामीणों को एक नवजात झाड़ियां में फेंका मिला। जिससे देखकर लग रहा था कि जन्म के कुछ घंटों के अंदर ही उसके उसकी मां से दूर कर दिया गया। बच्चों को किसने वहां पर फेंका, इसके बारे में कोई भी कुछ बता नहीं पा रहा था। मासूम बच्चे की मुस्कान देकर गांव के एक दंपती का प्रेम उस पर उमड़ पड़ा। मां की ममता ने बच्चे को अपने कलेजे से लगा दिया, ताकि उसे मां की कमी न खले। पूरा प्रेम और दुलार मिले।