21वीं सदी में भी महफूज नहीं आधी आबादी

प्रवीणविक्रमसिंह,ग्रेटरनोएडा:महिलासंबंधितअपराधपरअंकुशलगानाचुनौतीसाबितहोरहाहै।आधीआबादीपरअत्याचारकीघटनाएंरोकनेकेलिएएंटीरोमियोस्क्वायडवस्वयंसिद्धटीमकागठनकियागया।सिविलड्रेसमेंमहिलापुलिसकर्मियोंकीड्यूटीबाजारमेंलगाईगई।कुछदिनतकस्थितिकाबूमेंरहतीहै,ड्यूटीसेहटतेहीदोबाराछेड़छाड़कीघटनाएंशुरूहोजातीहैं।आंकड़ोंकीबातकरेंतोपिछलेएकवर्षमेंछेड़छाड़की144घटनाएंहुईं,जबकि44दुष्कर्मकेमुकदमेदर्जहुए।ऐसेमेंयहकहनागलतनहींहोगाकिकार्रवाईहोनेकेबादभीलोगोंकीमानसिकतामेंबदलावनहींआयाहै।

आधीआबादीकोसुरक्षितकरनेकेलिएस्वयंसिद्धकेतहत100स्कूटीसवारमहिलापुलिसकर्मियोंकीड्यूटीसंवेदनशीलस्थानोंपरलगाईगईहै।यहयोजनापिछलेवर्षअगस्त2020मेंशुरूकीगईथी।जिलेकेकुल163स्थानोंकोहाटस्पाटचिह्नितकियागया,जिसमेंप्रमुखविद्यालय,विश्वविद्यालयएवंऐसीफैक्ट्रियांजहांदेरशामतकमहिलाएंकार्यरतरहतीहैं।मेट्रोस्टेशनकेआसपासकेस्थान,आटोस्टैंडआदिसम्मलितहैं।इनहाटस्पाटकीसूचीमेंसमय-समयपरगौतमबुद्धनगरकीजनताकेसुझावकेआधारपरबदलावकियागया।पुलिसकीतरफसेकीगईकार्रवाईकेबादभीमहिलासंबंधितअपराधकीघटनाएंनहींरुकी।

जागरूकताअभियानजरूरी

पिछलेकुछसमयमेंदेखागयाहैकिसूरजपुर,बिसरख,दनकौर,रबूपुरावजेवरमेंमहिलासंबंधितअपराधकीघटनाएंहुईहैं।इनजगहोंपरजागरूकताअभियानकीजरूरतहै,जहांलोगोंकोसमझायाजासकेकिछेड़छाड़करनेपरजेलजानापड़सकताहैऔरसजाहोसकतीहै।

बालअपराधपरअंकुशजरूरी

नोएडावग्रेटरनोएडामेंबालअपराधपरअंकुशलगानाबेहदजरूरीहै।बीतेदिनोंबिसरखवसूरजपुरमेंछोटीबच्चियोंवकिशोरीसेदुष्कर्मकीघटनाओंकोअंजामदियागया।दनकौरमेंकिशोरभीकुकर्मकाशिकारहुए।हालांकिआरोपितगिरफ्तारहोगए,लेकिनपीड़ितोंकोहुएमानसिकआघातकोवापसनहींलौटायाजासकता।

पिछलेएकवर्षमेंहुएमहिलासंबंधितअपराध

समाजमेंमहिलाओंकोपुरूषोंकेमुकाबलेकमसमझाजाताहै।बचपनसेहीइससोचकेबीचलड़कीबड़ीहोतीहै।महिलासंबंधितअपराधपरअंकुशलगानेकेलिएपुरूषोंकोअपनीसोचबदलनेकीजरूरतहै।अभिभावककोइसमेंअहमभूमिकानिभानीहोगी।कानूनमेंभीबदलावकिएजानेकीजरूरतहै।सख्तकानूनबनायाजानाचाहिए।

डा.अनीताशर्मा,मनोचिकित्सक,निदेशकमाइंडग्रेसक्लीनिक

महिलासंबंधितअपराधकीजोसूचनाएंआतीहैंउनपरतत्कालकार्रवाईकीजातीहै।मेरीलोगोंसेभीअपीलहैकिजागरूकनागरिककापरिचयदेंऔरअपनेआसपासहोनेवालेअपराधकीजानकारीतत्कालपुलिसकोदें।अधिकतरघटनाएंऐसीहैं,जिसमेंआरोपितपीड़िताकाजानकारहोताहै।लोगोंकोमानसिकताबदलनेकीजरूरतहै।मजबूतपैरवीकेचलतेपिछलेएकवर्षमें67आरोपितोंकोसजाकराईगईहै।

-वृंदाशुक्ला,डीसीपीमहिलाएवंबालसुरक्षा

Previous post चंडीगढ़: अर्धनग्न अवस्था में म
Next post हाथरस में आर्थिक तंगी से जूझ र