40 साल और 13 वें प्रयास में रिंकू सिंह को इस तरह मिली यूपीएससी में सफलता, जानिये कैसे मिला मौका...

अलीगढ़,जागरणसंवाददाता।अलीगढ़केडोरीनगरनिवासीसिंहराहीकोसोचावहपालिया।हापुड़मेंसमाजकल्याणअधिकारीकेपदपरतैनात40वर्षीयरिंकूसिंहराहीने13वेंप्रयासमेंसंघलोकसेवाआयोग(यूपीएससी)कीपरीक्षामेंसफलताहासिलमिलीहै।दरअसल,सामान्यवर्गकेअभ्यर्थीको32वर्षकीआयुतकछहबारपरीक्षामेंशामिलहोनेकामौकामिलताहै।अन्यपिछड़ावर्ग(ओबीसी)केअभ्यर्थियोंकोनौबारपरीक्षादेनेकामौकामिलताहै।अनुसूचितजाति(एससीवर्ग)केअभ्यर्थी37वर्षकीआयुतकपरीक्षामेंशामिलहोसकतेहैं।परीक्षादेनेकीसंख्यासीमितनहींहै।एससीवर्गकाअभ्यार्थीदिव्यांगहैतोवह40वर्षकीआयुतकपरीक्षामेंशामिलहोसकताहै।रिंकूकीआयु40सालहैऔरवहदिव्यांगहैं।इसलिएउन्हेंमौकामिलगया।उन्हें683वींरैंकमिलीहै।

2004केपीसीएसअधिकारीहैं

रिंकूसिंहराही2004केपीसीएसअधिकारीहैं।पीसीएसकीपरीक्षापासकरनेकेबादभीउनकीतैयारीजारीरही।उन्हेंपहलीतैनातीमुजफ्फरनगरमेंसमाजकल्याणअधिकारीकेरूपमेंतैनातीमिली।यहांउन्होंने2009में100करोड़सेज्यादाकेघोटालेकापर्दाफाशकियाथा।

हमलाहुआ,सातगोलियांलगी

26मार्च2009कोपुरानेप्लानिंगदफ्तरकीसरकारीआवासीयकालोनीमेंवहएकसहकर्मीकेसाथसुबहबैडङ्क्षमटनखेलरहेथे।तबहमलावरोंनेताबड़तोड़गोलियांबरसादीथीं।ङ्क्षरकूराहीकोसातगोलियांलगींऔरउनकाजबड़ाभीबाहरआगया।उन्हेंहायरसेंटरमेरठलेजायागया।करीबचारमहीनेवहसुभारतीमेडिकलकालेजमेरठमेंभर्तीरहे।हमलेकेबादउनकीएकआंखकीरोशनीचलीगईऔरउन्हेंमुंहकीसर्जरीकरानीपड़ीथी।राहीपरकातिलानाहमलेकेआरोपमेंपुलिसनेजांचपूरीकरसमाजवादीपार्टीकेएकनेतासहितआठआरोपियोंकेखिलाफकोर्टमेंचार्जशीटदाखिलकी।फरवरी2021कोमुजफ्फरनगरकीविशेषएससी-एसटीकोर्टनेमुकदमेकीसुनवाईपूरीकरचारआरोपितोंकोजानलेवाहमलेकादोषीमानतेहुए10-10सालकीसजासुनाई।बाकीचारआरोपितोंकोसबूतोंकेअभावमेंबरीकरदियागयाथा।

तैयारीमेंलगेरहे

हमलेकेबावजूदउन्होंनेआइएएसबननेकासपनानहींछोड़ा।ङ्क्षरकूङ्क्षसहराहीजहांभीरहेतैयारीकरनानहींभूले।कभीप्री-परीक्षामेंसफलतामिलीतोकभीइंटरव्यूमेंमातखानीपड़ी,लेकिनहौंसलानहींतोड़ा।अब40सालकीउम्रमेंउन्होंने13वेंप्रयासमेंयूपीएससीकीपरीक्षापासकरली।

अलीगढ़मेंभीरहेतैनात

मुजफ्फरनगरमेंहुएहमलेकेबादरिंकूसिंहराहीको2009मेंलखनऊनिदेशालयअटैचकरदियागया।उसीसालउनकाअलीगढ़तबादलाहोगया।समाजकल्याणअधिकारीरहतेहुएमडराकस्थितआइएएस-पीसीएसकोचिंगसेंटरकेइंचार्जभीरहे।2012मेंसंतरविदासनगरतबादलाहोगया।चारमाहबादश्रावस्तीभेजदिएगए।वहांसेललितपुरतबादलाहोगया।जहांनिलंबितभीहुए।ललितपुरकेबाद2019मेंहापुड़तबादलाहोगया।वहांसेबलियातबादलाहोगया,लेकिनअभीज्वाइननहींकियाहै।

मुजफ्फरनगरमेंहुएहमलेनेऔरमजबूतीदी।मैंनेसोचलियाथाइससेज्यादाऔरक्याहोसकताहै?इंसानकोविचलितनहींहोनाचाहिए।कोशिशकरनेवालोंकीकभीहारनहींहोती।इसीसोचकेसाथमैंतैयारीकरतारहा।

-रिंकूसिंहराही।

Previous post दबंगों ने मां-बेटी समेत तीन को
Next post सचिवालय भवन में पाथे जा रहे उप