आजादी के सात दशक बाद भी शिक्षा का अंधेरा

जागरणसंवाददाता,अलीगंज(एटा):क्षेत्रकागांवपहरैयादोजिलोंकीसीमाकेबीचपिसरहाहै।फर्रुखाबादबार्डरसेलगनेवालेतहसीलक्षेत्रइसअंतिमगांवमेंआजादीकेबादसेआजतकविद्यालयकीस्थापनानहींहोसकीहै।बच्चोंकोपढ़ानाहैतोतीनकिमीदूरअमरौलीरतनपुरभेजनेकीमजबूरीग्रामीणोंकेसामनेहै।

सन1995मेंपहरैयाकोग्रामपंचायतबनायागयाथा।इससेपहलेकुढ़ापंचायतकेनामसेइसकोजानाजाताथा।करीबडेढ़हजारकीआबादीवालायहगांवआजादीकेसातदशकबादभीतमाममूलभूतसुविधाओंकोतरसरहाहै।यहांनतोरास्तोंपरखरंजाहैऔरनहीबरातघर।यूंतोसमस्याएंऔरभीहैं,लेकिनसबसेबड़ीपरेशानीगांवमेंस्कूलनहोनेसेहै।पिछड़ेहुएइसगांवमेंशिक्षासेहीविकासकीउम्मीदजगसकतीहै।लेकिनशिक्षाकारास्ताभीबहुतकठिनहै।स्कूलगांवसेतीनकिमीदूरअमरौलीरतनपुरमेंहै।बच्चोंकोअकेलानहींभेजासकता।उन्हेंलेकरजानेऔरवापसलानेकेलिएसमयनिकालनाकईमजदूर-किसानपरिवारोंकेलिएमुश्किलहोताहै।ऐसेमेंकईपरिवारअपनेबच्चोंकोपढ़ानेकामननहींबनापातेहैं।गांवकेसत्यप्रकाशकहतेहैंकिपड़ोसकेगांवोंमेंजबविकासकार्यहोताहैतोहमलोगउम्मीदकरतेहैंकिशायदहमारेगांवमेंभीविकासकीईंटकोईजनप्रतिनिधिरखेगा।आजतकऐसाकुछनहींहोसका।शिक्षाकेमामलेमेंगांवबहुतपिछड़ाहै।स्कूलबनेतोबच्चेशिक्षितहोंगेऔरउज्ज्वलभविष्यबनासकेंगे।चरन¨सहफौजीकाकहनाहैकिगांवमेंशादी-विवाहकेलिएकोईबरातघरनहींबनवायागयाहै।साफ-सफाईकीकमीकेचलतेनालियोंकापानीसड़कोंपरबहताहै।जिसकेकारणपूरेगांवमेंगंदगीबनीरहतीहै।रूपलाल,रामनरेश,श्यामकिशोरकाकहनाहैकिहरचुनावसेपहलेउम्मीदवारआतेहैंऔरगांवकाविकासकराकरसबसमस्याएंदूरकरनेकाआश्वासनदेजातेहैं।चुनावजीतनेकेबादकोईसुधनहींलेता।

Previous post पिता गया था काम के सिलसिले में
Next post रास्ते में घेरकर मारपीट