अनिता ने बनाई नई पहचान, गांव वालों के लिए बनीं नजीर

अररिया।अमरकथाशिल्पीफणीश्वरनाथरेणुकेधरतीपरअनमोलरतनोंकीकमीनहींरहीहै।यहांकिमहिलाएंभीनारीशसक्तीकरणकीमिसालरहीहै।इसीमेंसेएकहैफारबिसगंजमुसहरीगांवनिवासीअनितादेवी।जोअपनीक्षमताकेबलपरबेहतरकिसानीकेकारणगांववासियोंकेलिएनजीरबनगईहै।गांवकेकिसानउनसेखेतीकेगुरसिखनेआतेहैं।वहमहिलाओंकेलिएभीरालमाडलहै।गांवकेपरिवेशमेंपलीबढ़ीअनितादेवीनेदेशभरमेंअपनीपहचानबनाईहै।अनितापरडाक्यूमेंट्रीफिल्मबनाईगईहैजोदूरदर्शनपरप्रसारितकियागया।उनकीप्रतिभावक्षमताकोलेकरगांवमेंचर्चाआमहै।

आधुनिकतकनीकसेकरतीहैखेती:अनितादेवीसबौरवजिलाकृषिविज्ञानकेंद्रसेप्रशिक्षणप्राप्तकरनईतकनीकसेखेतीकरनेलगी।किसानीसेनसिर्फअपनीआर्थिकस्थितिमेंसुधारकियाबल्किगांवमेंअलगपहचानबनाईहै।

सशक्तबनानेमेंकीपहल:

अनितादेवीआसपासकेइलाकेमेंमहिलाओंकोसशक्तबनानेकीदिशामेंजागरूकताअभियानभीचलरहीहै।नारीशक्तिकाअहसासदिलानेकेलिएअलखजगारहीहै।वहमहिलाओंकोकृषिकार्यमेंजुटनेकेलिएप्रेरितकररहीहै।उनकाकहनाहैकिआजकीमहिलाएंपुरूषोंकेकदमसेकदममिलाकरआगेबढ़रहीहै।औरतोंमेंआत्मविश्वासकीकमीनहींहोतीहै,बसउसेनिखारनेकीजरूरतहै।महिलाएंआत्मनिर्भरबनेगीतोपरिवारखुशहालहोगा।वहकहतीहैकिहिम्मत,लगनवसंघर्षकाजज्बाहोतोहरमुश्किलेंआसानहोजातीहै।

पर्दाकीबेड़ीकोतोड़ा:

अनितादेवीपर्दाप्रथावघूंघटकीबेड़ियोंकोतोड़करसेबाहरनिकलीऔरआधुनिकतरीकेसेखेतीकरनेलगी।आजकामयाबीकेशिखरपरहै़।वहखुदसेहल,कुदाल,खेतमेंदवाकाछिड़काव,पशुपालन,मधुमख्खीपालनआदिस्वयंकरतीहै।इनसारीखूबियोंकेकारणआजआदर्शकिसानकेरूपमेंजानीजातीहै।मशरूमवसब्जीकीखेतीकोदियाबढ़ावा:

अनितादेवीउन्नतववैज्ञानिककिस्मकीपरंपरागतखेतीकेअलावा,मशरूमसब्जीकीखेतीकोबढ़ावादिया।वेअपनीआयकोभीदुगुनीकी।दूसरेकिसानोंकोभीमशरूमवसब्जीकीखेतीकरनेकेलिएप्रेरितकरतीहै।

प्रतिभाकीधनीहैअनिता:

पतिदिलीपमेहताबतातेहैकिउनकीपत्नीअनिताप्रतिभाकीधनीहै।नईतकनीकसेधानकीफसललगाई,अच्छीउपजहुई।जलसंचयनकीदिशामेंउनकाप्रयासअहमहैऔरदूसरोंकोभीपानीकीअहमियतबतातीहै।घरकेसमीपतालाबभीखुदवारहीहै।

Previous post चौका नदी पर पुल नहीं होने से स
Next post गांव मिताथल की पंचायत ने शराब