बेटा-बेटी में न करें भेद, दोनों हैं अनमोल

जागरणसंवाददाता,बस्ती:बेटाऔरबेटीकेबीचमेंभेदनहींकियाजानाचाहिए।प्रकृतिद्वाराप्रदानकियेजानेवालेदोनोंहीअनमोलउपहारहैं।सामाजिकसंतुलनकोबनाएरखनेकेलिएभीलिगभेदरोकाजानाआवश्यकहै।

यहविचारजिलाविधिकसेवाप्राधिकरणकेन्यायाधीशकुंवरमित्रेशसिंहकुशवाहानेव्यक्तकिया।वहजिलाजेलकीमहिलाबैरककानिरीक्षणकरबंदियोंकोसंबोधितकररहेथे।कहाकिकानूननलिगभेदकियाजाना,भ्रूणहत्याकरनाअपराधहै।डा.शिप्राशर्मानेकहाकिमहिलाओंकोइसकेलिएजागरूकहोनाचाहिए।बेटानहोनेकाज्यादातरअफसोसमहिलाओंकीतरफसेकियाजाताहै,जोनिदनीयहै।डा.मासूमअख्तरनेकहाकिमहिलाओंकोजागरूकहोनाचाहिए,क्योंकिहमखुदएकमहिलाहैंतोहमेंबेटियोंकेउत्पन्नहोनेपरगर्वहोनाचाहिए।इससेपूर्वमहिलाबैरकमें70महिलाएंमौजूदमिलीं।महिलाबैरकमेंकेवलएकस्थानपरअलावजलरहाथा।न्यायाधीशनेकमसेकमतीनस्थानपरअलावजलानेकानिर्देशदिया।महिलाबंदियोंकेसाथउनकेबच्चोंकोठंडसेबचनेकेलिएमौसमीफलउपलब्धकरानेकेलिएभीउपकारापालकोनिर्देशितकिया।इसमौकेपरवरिष्ठजेलअधीक्षकसंतलालयादववउपकारापालसुनीलसिंहभीमौजूदरहे।संतकबीरनगरकेजिलाजज,डीएमवएसपीनेजांचीजेलकीव्यवस्थाजागरणसंवाददाता,बस्ती:जनपदसंतकबीरनगरकेजिलाजजमहफूजअली,जिलाधिकारीदिव्यामित्तलवपुलिसअधीक्षककौस्तुभनेशनिवारकोबस्तीजेलकानिरीक्षणकरबंदियोंकीसमस्याओंकोसुना।अधिकारियोंनेजेलचिकित्सालयकीव्यवस्थाओंऔरवहांभर्तीमरीजोंकोदिएजारहेउपचारकेबारेमेंजानकारीली।पाकशालामेंबंदियोंकेलिएबनरहेखानेकीगुणवत्ताकोपरखा।जिलाविधिकसेवाप्राधिकरणकेसचिवनेबंदियोंकोविधिकयोजनाओंकेबारेमेंजानकारीदी।वरिष्ठजेलअधीक्षकसंतलालयादवनेबतायाकितकरीबनडेढ़घंटेतकत्रैमासिकमुआयनाचला।अधिकारियोंकोनिरीक्षणकेदौरानसबकुछसामान्यमिला।अधिकारियोंनेबंदियोंसेउनकीसमस्याओंकेबारेमेंपूछाऔरउनकेनिदानकेलिएनिर्देशितकिया।इसदौरानसीजेएमकेअलावाजेलस्टाफभीमौजूदरहा।गौरतलबहैजनपदसंतकबीरनगरकेवर्तमानमें505बंदीबस्तीजेलमेंनिरुद्धहैं।

Previous post संक्रामक से बालक की मौत, नौ बी
Next post स्वामी विवेकानंद के बताए मार्ग