बिहार पुलिसः शिकायत करने गई महिला कर्मचारी से जब थानेदार ने कहा- अपने बाप को भी बुला लो

पटना.बिहारकीराजधानीपटनामेंप्रदेशपुलिसकाबेहदहीअशालीनचेहरासामनेआयाहै.पटनासचिवालयमेंकार्यरतएकसरकारीमहिलाकर्मचारीमोबाइलझपटमारीकीशिकायतदेनेसचिवालयथानेपहुंचीथीं.लिखितशिकायतदेनेकेबादउन्‍होंनेरिसीविंगमांगी.इसपरसरकारीमहिलाकर्मचारीसेथानेदारकीनोकझोंकहोगई.इससेउसवक्‍तथानेमेंतैनातथानेदारसाहबकोइतनागुस्‍साआयाकिवहअपनीमर्यादाहीभूलबैठे.महिलाकर्मचारीकाआरोपहैकिथानेदारनेउन्‍हेंहाजतमेंबंदकरनेकाआदेशदेतेहुएअपनेबापकोबुलानेतककीबातकहडाली.अबइसमामलेनेतूलपकड़लियाहै.

दरअसल,मुख्यमंत्रीनीतीशकुमारनेजबप्रदेशकीसत्‍तासंभालीथीतोउन्‍होंनेपुलिसकीछविकोबेहतरकरनेकीकाफीकोशिशकीथी.शुरुआतमेंपुलिसवालोंनेउनकेकथनकापालनभीकिया,लेकिनबादमेंढाककेतीनपातवालीकहावतचरितार्थहोगई.पुलिसकाजनताकेप्रतिरूखेव्‍यवहारकीखबरेंआएदिनआतीरहतीहैं.ऐसाहीएकमामलापटनासचिवालयकेसचिवालयथानेमेंसामनेआयाहै.महिलाकर्मचारीकेसाथअभद्रव्‍यवहारसेपटनापुलिसकीछविपरगंभीरसवालउठेहैं.

बिहारकोएकऔरएक्‍सप्रेसवेकीसौगात,10जिलोंसेगुजरेगीहाईस्‍पीडरोड

जानकारीकेअनुसार,पटनासचिवालयमेंकामकरनेवालीएकमहिलाकासचिवालयकेहीगेटनंबर-2केपासमोबाइलझपटलियागया.महिलानेयहबातअपनेविभागकेलोगोंकोबताईऔरदूसरीमहिलासहकर्मीकेसाथशिकायतदर्जकरानेसचिवालयथानापहुंचगईं.सचिवालयथानामेंउसवक्तथानाध्यक्षसीपीगुप्तामौजूदथे.सचिवालयमेंकामकरनेवालीमहिलासरकारीकामकाजकेतौर-तरीकोंसेअवगतथीं,लिहाजाउन्‍होंनेलिखितआवेदनदिया.महिलानेउसकेबादआवेदनपररिसीविंगमांगनेलगीं.उनकीइसबातकोलेकरथानेदारसीपीगुप्तासेनोकझोंकहोनेलगी.इसदौरानथानेदारसाहबइतनानाराजहोगएकिउन्‍होंनेमहिलाकेसवालपूछनेपरउन्‍हेंहाजतमेंबंदकरनेकाआदेशदेदिया.बातइतनेपरहीनहींथमीतोथानेदारयहकरतेनजरआएकिअपनेबापकोभीबुलालो.

थानेदारसीपीगुप्‍ताकेरवैयेसेपीड़ितमहिलाहैरानरहगईं.उन्‍होंनेथानेदारकेशब्दोंकाविरोधकियाऔरकहाकिउन्हेंऐसाबोलनेकाहकनहींहै.हैरानीकीबातयहहैकिसचिवालयथानेकेबगलमेंहीएएसपीकार्यालयहै,वहांकीमुखियाजोखुदमहिलाहैं.एएसपीकाम्यामिश्राइसमामलेकोदेखनेकेलिएबाहरनिकलीं.थानेदारकोनसीहतदेनेकेबजायएएसपीपीड़ितसचिवालयमहिलाकर्मचारीकोहीसमझानेमेंजुटगईं.

ब्रेकिंगन्यूज़हिंदीमेंसबसेपहलेपढ़ेंNews18हिंदी|आजकीताजाखबर,लाइवन्यूजअपडेट,पढ़ेंसबसेविश्वसनीयहिंदीन्यूज़वेबसाइटNews18हिंदी|

Tags:Biharpolice,PatnaNewsUpdate

Previous post रतनपुर गांव में चुनाव में वोट
Next post एक ही रात भगवानपुर के चार घरों