चमोली के सकंड गांव में कब पहुंचेगी सड़क

संवादसत्र,गौचर:एकओरजहांराज्यमेंसड़कोंकालगातारजालबिछरहाहैवहीं,कईगांवऐसेहैं,जहांकीअभीभीसुधनहींलीजारहीहै।ऐसाहीहालसीमांतजनपदचमोलीकेसकंडगांवकाहै।

कर्णप्रयागविकासखंडअंतर्गतइसगांवमेंआजादीकेसातदशकबादभीसड़कनहीपहुंचीहै।गांवतकसड़कसुविधानहोनेसेग्रामीणोंकोपांचकिमी.कीदूरीनापनीपड़रहीहै।गांवतकसड़ककीमांगकोलेकरग्रामीणकईबारशासन-प्रशासनस्तरपरगुहारलगाचुकेहैंलेकिनआजतककिसीकाध्यानग्रामीणोंकीसमस्यापरनहीगयाहै।

सकंडगांवकेलिएमोटरमार्गवर्ष1995मेंस्वीकृतकियागयाथा,सातकिमीस्वीकृतमोटरमार्गकोबनानेकेलिएग्रामीणलोनिविगौचरकेचक्करकाटरहेहैंकईबारशासनकोइसबाबतलिखितरूपसेअवगतकरायाजाचुकाहैलेकिनआजतकस्थितिजसकीतसहै।ग्रामीणइलाकाहोनेकेचलतेयहांकेपैदलरास्तोंपरजंगलीजानवरोंकाखतराबनारहताहै।गांवकेसामाजिककार्यकर्तावपूर्वउपप्रधानसतेसिंहचौधरीनेबतायाकिमोटरमार्गनिर्माणकार्यप्रारंभनहींहोसकाहैजबकिलोकनिर्माणविभागौचरस्वीकृतमोटरमार्गकातीनबारसर्वेभीकरचुकाहै।

Previous post सात निश्चय योजना से भी नहीं बद
Next post शूटरों की तलाश में कई ठिकानों