डिलीवरी के आई महिला को पीजीआइ रेफर किया तो एंबुलेंस में नहीं मिला तेल

जागरणसंवाददाता,बहादुरगढ़:शहरकेसिविलअस्पतालमेंडिलीवरीकेलिएआईएकमहिलाकोस्वास्थ्यविभागकीलापरवाहीकेलिएकाफीपरेशानीकासामनाकरनापड़ा।अस्पतालप्रशासनकीओरसेउसेगंभीरअवस्थाकेचलतेरोहतकपीजीआइरेफरकरदियालेकिनरोहतकलेजानेकेलिएअस्पतालमेंखड़ीएंबुलेंसमेंतेलनहींमिला।बादमें108नंबरकॉलकरकेदूसरीएंबुलेंसमंगवाईगई।इसदौरानगर्भवतीमहिलावउसकेपरिजनोंकोकरीब25मिनटतकइंतजारकरनापड़ा।गनीमतयहरहीकिइसदौरानकोईअनहोनीनहींहुई।

दरअसल,बहादुरगढ़सेकुछदूरीपरदिल्लीकेगांवसावदानिवासीआरती27वर्षपत्नीरणजीतशहरकेसिविलअस्पतालमेंडिलीवरीकेलिएआईथी।यहांपरअस्पतालकेस्टाफनेइमरजेंसीकेसबताकरउसेरेफरकरदिया।अस्पतालमेंउससमयएंबुलेंसनंबरएचआर-63सी-3837खड़ीथी।अस्पतालकेस्टाफनेएंबुलेंसप्रबंधकसेबातचीतकीतोपताचलाकिइसएंबुलेंसमेंतेलनहींहै।बतायाजारहाथाकिअस्पतालकेपासचारएंबुलेंसहैं।उससमयतीनकहींगईहुईथी।बादमें108परकॉलकरकेदूसरीएंबुलेंसकीव्यवस्थाकीगई।करीब25मिनटबाददूसरीएंबुलेंसआईतोआरतीकोरोहतकलेजायागया।जबएंबुलेंसकेचालकसेबातचीतकीगईतोउन्होंनेबतायाकिएंबुलेंसमेंतेलनहोनेकीसूचनाशामकोपांचबजेदेदीगईथी।मगरपंचकुलामेंइससमयकोईकार्यालयमेंनहींरहताहैतोतेलकेपैसेपासनहींहुए।वहींइसबारेमेंसिविलअस्पतालकेडा.देवेंद्रमेघानेबतायाकिमुझेइसघटनाकेबारेमेंजानकारीनहींहै।नाहीमेरेसंज्ञानमेंयहमामलाहै।मैंइसबारेमेंजानकारीलेकरहीकुछबतासकताहूं।बादमेंउन्होंनेअपनामोबाइलबंदकरदिया।अबएंबुलेंसमेंतेलआखिरकिनकारणोंसेनहींथायहतोजांचकेबादहीपताचलेगालेकिनस्वास्थ्यविभागकीलापरवाहीकेकारणएकगर्भवतीवउसकेपरिजनोंकोकाफीपरेशानियोंकासामनाकरनापड़ा।

Previous post संक्षेप में पढ़ने के देखे अपने
Next post ग्रामीणों की चौकसी से ट्रैक्टर