डर के साए में काटी रात, सुबह होते ही पहुंचे बुधकी नदी के बांध पर

जागरणसंवाददाता,रूपनगर:बुधवारदेररातहुईबारिशसेखैराबाद,फूलखुर्द,फूलकलांऔररोड़ूआणागांवकेलोगोंकीरातकीनींदउड़गई।लोगरातभरजागतेरहेऔरतड़केहीबुधकीनदीकेबांधपरपहुंचगए,जहां18अगस्तकोदरारपड़नेकेबादबाढ़आईथी।बारिशकेपानीसेबांधपरडालीगईमिट्टीबहतीदेखगांववासियोंकीचिताएंऔरबढ़गईहैं।गांवकेलोगोंनेजिलाप्रशासनकेमोबाइलपरघंटियांखड़कादीं।गांववासियोंमेंइसबातकोलेकररोषहैकिबाढ़आए17दिनबीतजानेकेबादभीप्रशासनऐसीव्यवस्थानहींबनापायाकिगांवकेलोगसुकूनकीनींदसोसकें।खैराबादकेसरपंचतरलोचनसिंह,गुरदेवसिंहफूलखुर्द,सुखदेवसिंह,गुरविदरखैराबाद,गुरनामसिंहखैराबाद,भूपिदरसिंहनेकहाकिजोबांध18अगस्तकोटूटाथावोकरीब80-90फीटचौड़ाथा,लेकिनप्रशासननेअबजोबांधबनायाहै,वो25-30फीटहैऔरअभीमिट्टीगीलीहै।बुधवाररातकोबरसातीनदीमेंआएबरसातकापानीबांधकेलगभगबराबरहोकरगुजरा।अगररातकेकिसीसमयबाढ़दोबाराआतीहै,तोफिरसेगांवकेलोगोंकीजिदगीदांवपरलगजाएगी।लोगोंनेकहाकिजितनाचौड़ाबांधटूटाहैउसेउतनाहीचौड़ाबनायाजाए।बांधमेंनदीवालेहिस्सेमेंस्टडलगाएजाएं,ताकिपानीदोबारामारनकरपाए।मौकेपरप्रशासनकीओरसेपोकलेनमशीनलगाकरबांधकेऊपरबारिशकीवजहसेबहीमिट्टीकोभराजारहाथा।खेतीयोग्यजमीनकाहुआथानुकसान

18अगस्तकोबुधकीनदीकाधुस्सीबांधकाकरीब200फीटसेज्यादाहिस्साटूटगयाथाऔरपानीखैराबाद,फूलखुर्द,फूलकलां,रोडूआणामेंलोगोंकेघरोंमेंपांच-पांचफीटतकभरगयाथा।यहीआगेआइआइटीरूपनगरमेंदाखिलहोगयाथा,जिससेकरोड़ोंरुपयेकानुकसानहुआथा।दसदिनतकलोगअपनेघरोंमेंसफाईनहींकरपाए,क्योंकिबरसातीनदीकेपानीकीमिट्टीघरोंमेंभरगईथी।तबबाढ़मेंसेलोगोंकोएनडीआरएफ,शेरएपंजाबयूथक्लबऔरहरविदरसिंहकिश्तीवालेनेमोटरबोटऔरट्रैक्टरट्रालोंसेनिकालाथा।गांववासियोंनेबतायाकिइससेपहले1994मेंभीबांधयहींसेटूटाथा।तबखेतीयोग्यजमीनकाहीनुकसानहुआथा।चोकापानीहोरहाइकट्ठागांववासियोंनेबतायाकिबांधकीइसतरफभीकाफीगहराईमेंपानीखड़ाहोगयाहै।बांधकीदाईओरसेएकचोआताहै,जिसकापानीयहांइकट्ठाहोरहाहै।चोमेंगौशालाकीतरफसेपानीआताहै।गांवकेलोगइसपानीकोरोकनेकीकोशिशकररहेहैं।इसचोकेपानीसेभीखेतीयोग्यजमीनकोनुकसानहुआहै।

कुछेकबिनावजहडरकामाहौलबनारहेहैं

वहींड्रेनेजविभागरूपनगरकेएक्सईएनरूपिदरसिंहपाबलानेकहाकिगांवकेकुछेकलोगबिनामतलबसेडरकामाहौलबनारहेहैं,जबकियहांकुछभीखतरानहींहै।बांधकोमजबूतबनायाजारहाहैऔरयेकाम18अगस्तसेहीजारीहै।मशीनरीलगातारलगीहुईहै।बांधउतनाहीचौड़ाबनायाजाएगा,जितनावोपहलेथा।गांवकेलोगकिसीतरहकेवहममेंनरहें।गांववासियोंकीमांगकेमुताबिकबांधकोमजबूतबनाएंगे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

Previous post जसविंदर सिंह बने सोसायटी की अब
Next post महिला चिकित्सक से खाली रही ओपी