गांव गांव में गूंजे फूल देई, छम्मा देई. के स्वर

चौखुटिया:हिंदूनववर्षचैत्रमासकेआगमनकाप्रतीकमानाजानेवालालोकपर्वफूलदेईसमूचेविकासखंडमेंउमंगभरेवातावरणकेबीचहर्षोल्लासकेसाथमनायागया।घर-घरमेंविशेषपकवानतैयारकरपारंपरिकइसपर्वकीरस्मनिभाईगई।त्योहारकेप्रतिबच्चोंमेंखासाउत्साहदेखागया।जोहाथोंमेंफूलोंसेसजीटोकरी-थालीलिएघर-घरघूमेतथाहरदेहली-द्वारपरफूलचढ़ाकरआशीर्वादस्वरूपचावलवगुड़मांगा।

पारंपरिकपर्वफूलदेईगांव-गांवमेंउत्साहवधूमधामसेमनायागया।सुबहसेहीबच्चेपर्वकेप्रतिखासेउत्साहितदिखे।जोअपनेहाथोंमेंफूलोंसेसजीटोकरीवथालियांलिएघरघरपहुंचेतथाफूलदेईछम्मादेई.केस्वरोंकेसाथद्वारपरफूलचढ़ाकरपरिवारकीसुख-समृद्धिकीकामनाकी।इसकेएवजमेंपरंपराकेअनुसारहरपरिवारकेमुखियानेबच्चोंकोचावल,गुडवपैसेदिए।त्योहारपरहरघरोंमेंपकवानभीबनाएगएएवंपूजाअर्चनाभीकीगई।मासी,भिकियासैंण,भतरौजखान,देघाटवस्याल्देआदिक्षेत्रोंमेंभीत्योहारकीखूबधूमरही।(संस)

Previous post वंदना सकलडीहा की कोतवाल
Next post पुत्र की हत्या कर पत्नी ने लगा