हिसार के गांव खेदड़ में अनोखी पहल, बिना दहेज लिए शादी करने वालों के यहां फ्री दे रहे सभी सुविधाएं

राजेशचुघ,बरवाला:हिसारकेखेदड़गांवमेंदहेजजैसीसामाजिकबुराईकेखिलाफकुछसमयपूर्वशुरूकीगईएकअनूठीमुहिमअबरंगलानेलगीहै।खेदड़गांवमेंविवाहशादियोंमेंहलवाई,टेंट,फोटोग्राफर,गाड़ी,डीजेआदिकाकामकरनेवालेलोगोंनेएकत्रितहोकरयहऐलानकियाथाकिउनकेगांवखेदड़मेंजोभीव्यक्तिबिनादहेजकेशादीकरेगा।उसशादीमेंवहअपनीसारीसेवाएंबिल्कुलमुफ्तमेंप्रदानकरेंगे।किसीभीप्रकारकाकोईभीशुल्कउनसेनहींलियाजाएगा।खेदड़गांवकेलोगोंनेजबयहमुहिमशुरूकीतोउससमयभीउनकीयहमुहिमअच्छीखासीचर्चामेंआगईथी।अबआखिरकारउनकीमुहिमसेप्रेरितहोकरखेदड़गांवकेखेतीबाड़ीकरनेवालेधर्मपालशर्मानेअपनेपुत्रविनोदशर्माकीशादीबगैरदहेजकेकरनेकीघोषणाकी।

इतनाहीनहींउन्होंनेअपनेपुत्रविनोदकीसगाईमेंकेवलमात्रएकरूपयाशगुनकेतौरपरलिया।बिनादहेजकेशादीकरनेकीघोषणाकेबादखेदड़गांवमेंटेंटवहलवाईकाकामकरनेवालेधर्मबीरवबल्लूने,फोटोग्राफरकाकामकरनेवालेपवनने,डीजेकाकामकरनेवालेजोगिंदरदलाल,नाईकाकामकरनेवालेराजू,पीनेकेपानीकेआरओकाकामकरनेवालेसर्वजलकैंपरवालोंनेतथाबारातमेंगाड़ियांलेजानेवालेसतीशवउसकेसाथियोंनेपांचगाड़ियांबगैरकोईपैसालिएबिल्कुलनि:शुल्कबरातलेजानेकाफैसलाकिया।इसीकड़ीमेंउपरोक्तसभीनेअपनीसेवाएंमुफ्तप्रदानकीतथाविनोदशर्माकीशादीमेंउसकेआवासपरदोपहरकेभोजनकीपार्टीग्रामीणोंकेलिएआयोजितकीगई।

उचानाखुर्दगईविनोदशर्माकीबरात

विनोदकीबरातसोमवारकोउचानाखुर्दगईहै।बरातमेंपांचगाड़ियांबिल्कुलफ्रीगईहैं।जिन्हेंसतीश,नरेश,रोशनलाल,राजेशकुमारतथासतीशसहारणद्वाराबिल्कुलफ्रीलेजायागया।उड़ानकैंपसकेसंचालकशत्रुघ्नआदिभीइसप्रकारकेसामाजिककार्यमेंभरपूरसहयोगकररहेहैं।खेदड़गांवमेंउपरोक्तसभीनेजोमुहिमशुरूकीथी।वहदहेजप्रथाकोसमाप्तकरनेकेलिएकीथी।उसीकड़ीमेंआजयहपहलीशादीथी।इसलिएउपरोक्तसभीनेआजअपनीघोषणाकेअनुरूपसारीसेवाएंनिशुल्कप्रदानकरकेइसमुहिमकोबलप्रदानकरनेकाकामकियाहै।

दहेजएककलंकहैदुल्हनहीदहेजहै

खेदड़गांवमेंयहबगैरदहेजवसभीसुविधाएंइसमेंबिल्कुलफ्रीहोनेकेकारणयहशादीचर्चाकाविषयबनीहुईहै।गांवमेंदूल्हेविनोदशर्माकेपिताधर्मपालशर्मानेजोनिमंत्रणपत्रछपवाकरगांवमेंबांटेहैं।उसकेऊपरभीउन्होंनेयहप्रिंटकरवारखाहैकिदहेजएककलंकहैदुल्हनहीदहेजहै।खेदड़केलोगोंद्वाराशुरूकीगईयहमुहिमनिश्चितरूपसेआनेवालेसमयमेंअच्छापरिणामलेकरआएगी।

गाड़ीचालकसतीशकेअनुसारसमाचारपत्रोंमेंवइंटरनेटमीडियामेंपिछलेदिनोंक्रेटागाड़ीएकदूल्हेद्वारामांगनेकीचर्चाअच्छीखासीहुईथी।उसीकेबादउनकेमनमेंयहविचारआयाकिदहेजजैसीसामाजिकबुराईतोखत्महोनीहीचाहिए।उसीकड़ीमेंउन्होंनेयहमुहिमशुरूकी।जिसकाअसरअबहोनाशुरूहोगयाहैइसकारणवहकाफीप्रसन्नहै।

Previous post युवा वर्ग में वैक्सीन के प्रति
Next post निशानदेही पर नालागढ़ से एक और