हमीरपुर में नौ- दस साल के सगे भाईयों ने बुजुर्ग को कुल्हाड़ी से काट डाला

हमीरपुर(जेएनएन)।उम्रनौऔरदससाल।मासूमसेदिखनेवालेकक्षाछहकेछात्रदोनोंसगेभाइयोंपरगांवमेंचोरीकेआरोपतोलगतेरहे,लेकिनकत्ल...!सिसोलरक्षेत्रकेभमईगांवमेंबीती15जनवरीकोहुईवृद्धकीहत्याजबइनछात्रोंनेस्वीकारकीतोहरकोईसन्नरहगया।हत्याकेपीछेवजहयहकिवृद्धनेमेलाघूमनेकेलिएपैसादेनेसेइन्कारकरदियाथा।इसपरदोनोंभाइयोंनेपहलेउसेलाठीसेपीटा,फिरकुल्हाड़ीसेकाटडाला।इसकेबादजेबसेदोसौरुपयेनिकालभागगए।हत्याके24दिनबादपुलिसनेगुरुवाररातदोनोंकोगिरफ्तारकियातोवारदातकीसारीपरतेंखुलतीगईं।आरोपियोंकोशुक्रवारसुबहबालकारागारभेजदियागया।

भमईगांवनिवासीसूराउर्फआनंदी(70)अविवाहितथे।गांवसेबाहरअपनेछोटेसेखेतमेंझोपड़ीबनाकररहतेथे।उनकेदोभाईगांवमेंमजदूरीकरतेहैं।बीती16जनवरीकोझोपड़ीकेबाहरउनकाशवदेखागया।उनकेभाईभोलानेसूचनापुलिसकोदी।पुलिसनेअज्ञातकेखिलाफहत्याकीरिपोर्टदर्जकरछानबीनशुरूकी।पोस्टमार्टमरिपोर्टधारदारहथियारसेहत्याकीपुष्टिहुई।थानाध्यक्षसिसोलरअभिमन्युयादवनेगुरुवाररातकक्षाछहकेछात्रदोसगेभाइयोंकोहिरासतमेंलिया।

दोनोंनेपूछताछमेंसूराकीहत्याकुबूलकी।अपरपुलिसअधीक्षकलालसाहबयादवनेबतायाकिदोनोंभाईगांवमेंचोरियांभीकरतेरहेहैं।आरोपियोंनेबतायाकिएकबारगांवमेंचोरीकरतेहुएसूरानेपकड़लियाथाऔरशिकायतपरिजनसेकरदी।दोनोंकीजमकरपिटाईहुईथी।इसबातसेदोनोंसूरासेनाराजचलरहेथे।गांवमेंमेलाथा।इनकेपासमेलामेंघूमनेकेलिएपैसेनहींथे।15जनवरीकीरातदोनोंसूराकेखेतमेंपहुंचेऔरउससेरुपयेमांगनेलगे।उसवक्तसूराआगतापरहेथे।रुपयेनदेनेपरपहलेएकभाईनेउनकेसिरपरडंडामारदिया।सूराभागनेलगेतोदूसरेभाईनेसिरवगर्दनपरकुल्हाड़ीसेकईवारकिए।सूराकीवहींमौतहोगई।

पढ़ने-खेलनेकीउम्रमेंबनगएहत्यारे

सिसोलरक्षेत्रकेभमईगांवमेंमेलेकेलिएपैसानदेनेपरवृद्धसूराकीहत्याकरनेवालेसगेभाईदोनोंछात्रोंकीगिरफ्तारीकेबादगांवमेंउनकोलेकरचर्चातेजहोगई।पुलिसनेहत्यामेंप्रयुक्तकुल्हाड़ीभीबरामदकरली।ग्रामीणोंकेमुताबिकपढ़ने-खेलनेकीउम्रमेंदोनोंहत्यारेबनगए।चंदपैसोंकेलिएइतनाबड़ाकदमउठालिया।उनमेंइतनीहिम्मतआईकहांसे?ऐसेतमामसवाललोगोंकीजुबांपरहैं।

छात्रोंकीमांबोलनहींसकतीतोपितासुनपानेमेंअसमर्थहैं।

दोनोंकिसीतरहमेहनत-मजदूरीकरपरिवारकापोषणकररहेहैं।पितानेबताया,बच्चोंकीबेहतरीकेलिएस्कूलमेंदाखिलकराया,लेकिनपतानहींकबयेअपराधकीओरमुड़गए।बोले,हमदोनोंदिव्यांगहैं,इसकारणइनकीदेखरेखनहींकरसकेऔरयहअपराधीबनगए।ग्रामीणोंकाकहनाहैकिदोनोंकापढ़ाईसेदूर-दूरतककोईनातानहींहै।गांवमेंहीआएदिनमारपीटवचोरीकीघटनाओंकोअंजामदेतेथे।दोनोंदूसरेलड़केभयखातेथे।

सूराकेसाथबैठकरतेथेनशा

दोनोंछात्रजरासीउम्रमेंनशेकेआदीहोगएथे।पितानेबतायाकिकभी-कभीदोनोंअपनेचचेरेभाइयोंकेपासनोएडाभीजाकररहतेथे।वहींजाकरनशाकरनाशुरूकरदियाथा।येअक्सरगांवकेबाहरसूराकीझोपड़ीमेंजाकरनशाकरतेथेऔरवहींसोजातेथे।सूराभीइन्हेंपैसेदेकरगांजाआदिनशेकासामानमंगाताथा।

Previous post उत्तराखंड: भरी शादी में दलित क
Next post कटना नदी पुल पर ट्रक पलटा, छह