जानें एक मां की मजबूरी, डेढ़ साल की बेटी को अपनाने से किया इन्‍कार

जेएनएन,अबोहर।एकमांकीमजबूरीआपकेदिलकोझकझाेरदेगी।वहअपनेकलेजेकेटुकड़ेकोखुदसेअलगकरनाचाहतीहै।गरीबीसेलाचारयहमांअपनेबच्‍चोंकोपालनेमेंअसमर्थहै।इसकारणवहसबसेछोटीडेढ़सालकीबेटीकोट्रेनमेंछोड़करचलीगई।वहबठिंडाचलीगईलेकिनममतानखत्‍महुईअौरबेटीकोतलाश्‍ामेंअगलेदिनयहांरेलवेस्‍टेशनपहुंचगई।तबतकबच्‍चीकोट्रेनमेंराेतीदेखजीआरपीनेअपनेकब्‍जेमेंलेकरप्रशासनकोसौंपदियाथा।महिलाचाहतीहैकिबच्‍चीकोकोईगोदलेलेताकिउसकापालनपोषणहाेजाए।प्रशासनअबइसकीसंभावनातलाशरहाहै।

गरीबीसेलाचारमांनेडेढ़सालकीबच्चीकोट्रेनमेंछोड़ा

जीआरपीकोदोदिनपहलेयहांरेलवेस्‍टेशनपरएकट्रेनमेंडेढ़सालकीएकबच्‍चीरोतीहुईमिली।जीआरपीकेजवानोंनेउसेअपनीनिगरानीमेंलेलिया।बच्‍चीसेपूछताछमेंखुलासाहुआकिवहअपनीमांकेसाथयहांआईथीऔरउसेट्रेनमेंछोड़करमांकहींचलीगई।ठंडकेकारणबच्‍चीकीहालतखराबहोजानेकेकारणजीआरपीनेबच्चीकोश्रीबालाजीमानवसेवासमितिकेमाध्यमसेएकनिजीअस्‍पतालमेंभर्तीकराया।

उधरबच्‍चीकोछोड़करगईमहिलाअगलेदिनमंगलवारकोउसकाहालजाननेअबोहररेलवेपरपहुंचीतोजीआरपीकर्मियोंनेउससेपूछताछकी।महिलानेसारीबातबतादीऔरबतायाकिवहगरीबीकेकारणबेटीकोपालनेमेंअसमर्थहै।इसीकारणवहउसेट्रेनमेंछोड़करगईथीताकिउसेकोईअपनाले।

अबबच्चीप्रशासनकीदेखरेखमेंरहेगी।प्रशासननेइसबच्चीकोगोददेनेकीकार्रवाईशुरूकरएककमेटीकागठनकियाहै।कमेटीडीसीकोरिपोर्टदेगी,जिसकेआधारपरतयकियाजाएगाकिमहिलाकेखिलाफक्याकार्रवाईकीजाए।

महिलानेबतायाकिवहप्रेमनगरमेंरहतीहैऔरउसकेचारबच्चेहैं।पतिमजदूरीकरताहै।वहअक्सरबाहररहताहै।इसकारणखानेकेभीलालेपड़ेरहतेहैं।इसकारणवहचाहतीथीकिउसकेचारबच्‍चोंमेंसेछोटीबेटीकोकाेईगोदलेले।महिलाकेअनुसार,उसनेसोचाकिछोटीबेटीकाेट्रेनमेंंछोड़देगीतोकोईतरसखाकरउेसअपनालेगा।

इसकेबादवहअपनेदोबच्‍चोंकोलेकरस्‍टेशनआईआैरडेढ़सालकीबेटीकोएकट्रेनमेंछोड़़करचलीगई।महिलाखुदअन्यबच्चेकेसाथबठिंडाचलीगई।बच्चीकोगाड़ीमेंरोतादेखयात्रियोंनेजीआरपीसूचनादी।जीआरपीनेबच्चीकोअपनेसंरक्षणमेंलेकरइसकीसूचनाबालाजीमानवसेवासमितिकेसदस्योंकोदी।समितिकेसदस्योंनेबच्चीकेपरिजनोंकापतालगानेकेप्रयासशुरूकरदिए।

बच्‍चीकोठंडलगगईथीकिइसकारणसमितिकेसदस्‍याेंनेउसेगोशालारोडस्थितएकअस्पतालमेंदाखिलकरवाया।पूरीरातउसकीदेखभालकी।मंगलवारकोमहिलाफिरस्‍टेशनपरआईऔरवहांबच्‍चीकोढ़ूढ़नेलगी।रेलवेस्टेशनपरतैनातजीआरपीकर्मियोंनेम‍हिलाकोकिसीकोढ़ूंढ़तेदेखातोउससेपूछताछकी।

इसपरमहिलानेबच्‍चीकोट्रेनमेंछोड़नेकीबातकबूलकरली।इसकेबादमहिलाकोउसअस्‍पताललेजायागयाजहांबच्‍चीकोभरतीकरायागयाथा।बच्‍चीकोदेखकरमांकीआंखोंमेंआंसूआगएऔरउसेगलेसेलगालिया।जीआरपीनेमामलेकीसूचनाप्रशासनिकअधिकारियोंकोदी।एसडीएमपूनमसिंहभीअस्पतालपहुंचींऔरमहिलासेपूछताछकी।मामलेकीसूचनाबालसुरक्षाअधिकारीरितुरानीवरणवीरकौरकोभीदीऔरवेभीअस्पताल पहुंचगईं।

महिलानेकहाकिवहबेहदगरीबहैऔरबच्‍चीकापालनपोषणकरनेमेंसक्षमनहींहै।उसनेअधिकारियोंकोबतायाकिउसकीएकबेटीदादीकेपासहै।एकबेटामौसीकेपासरहताहै।दूसराबेटावछोटीबेटीकेसाथवहकिरायेकेमकानमेंरहतीहै।घरकीआर्थिकस्थितिखराबहोेनेकीवजहसेवहइसबच्चीकोपालनेमेंअसमर्थहैआैरउसेकिसीसहीव्‍यक्तिकोगाेददेनाचाहतीहै।

प्रशासनिकअधिकारियोंबच्‍चीकोगाेददेनेकानूनीप्रक्रियाकेलिएएसडीएमने चारसदस्यीयकमेटीगठितकीहै।कमेटीमेंएसडीएम,डीएसपी,एसएमओवतहसीलदारशामिलहैं।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

Previous post विहिप का हितचितक अभियान 17 से
Next post आग से जलकर महिला की मौत, दहेज