जानलेवा साबित हुआ मछली पकड़ने का शौक

संवादसूत्र,करौंदीकला(सुलतानपुर):बारिशकेमौसममेंमछलियांपकड़नेकाशौकचारबच्चोंकेलिएजानलेवासाबितहुआ।रविवारकोस्कूलबंदहोनेकीवजहसेबच्चोंकीटोलीरोमांचकीतलाशमेंगोमतीनदीकेतटपरबसेशहाबुद्दीनपुरगांवपहुंचगई।मछलियोंकोजालमेंफंसानेकीजद्दोजहदमेंचारबच्चेअपनीजानगवांबैठे।इसदर्दनाकघटनासेइलाकेमेंकोहराममचगया।मृतकोंकेपरिवारीजनगहरेसदमेमेंऔरग्रामीणसन्नहैं।भाईकोबचानेनदीमेंकूदगयासत्यम

हादसेमेंमारेगएसभीबच्चेरमसापुरप्राथमिकवउच्चप्राथमिकविद्यालयमेंपढ़तेथे।कक्षातीनकाछात्रशिवमजबगोमतीमेंडूबनेलगातोउसकेबड़ेभाईसत्यमनेअपनीजानकीपरवाहनाकरतेहुएनदीमेंछलांगलगादी।लाखकोशिशकेबावजूदवहशिवमकोबचानसकाऔरखुदभीडूबनेलगा।गनीमतरहीकीमछुआरोंनेसत्यमकाहाथपकड़करउसेबाहरखींचलिया।जिससेउसकीजानबचगई।पोस्टमार्टमकीहिम्मतनाजुटासकेपीड़ितपरिवारीजन

मृतकोंकेपरिवारीजनइसकदरसदमेमेंहैंकिवेशवोंकापोस्टमार्टमकरानेकीहिम्मतनहींजुटासके।करौंदीकलाथानेकेप्रभारीउपनिरीक्षकअमितकुमारनेबतायाकिबच्चोंकेमाता-पिताकोकाफीदेरतकसमझाया-बुझायागया,मगरउन्होंनेशवोंकापोस्टमार्टमकरानेसेइनकारकरदिया।जिसकेबादशामकोपंचनामाकरशवकोपरिवारीजनकेसुपुर्दकरदियागया।देरशामसभीशवोंकाअंतिमसंस्कारकरदियागया।

गांवमेंदिखादिलदहलादेनेवालामंजर

पड़ोसीगावोंमेंएकसाथचारबच्चोंकीअर्थीउठीतोलोगोंकादिलदहलगया।महिलाओंकेरोने-चीखनेकीआवाजसेक्षेत्रमेंमातमकामाहौलहै।मृतकोंकेपरिवारीजनकोढांढसबधानेवालोंकीआंखेभीनमहोगईं।हादसेमेंजानगंवानेवालेमनीषकीमांलक्ष्मीना,हमीदकीमांईशमातुम,शिवमकीमांप्रियंकाभाईसत्यमव¨प्रसकीमांविद्यावभाईविकासकारो-रोकरबुराहालहोगयाहै।

Previous post मां भारती की रक्षा के लिए जिले
Next post बिना स्वावलंबन सम्मान व सुरक्ष