जल संचयन को ग्रामीणों ने बना दिया था 52 बीघा का तालाब

अनुरागश्रीवास्तव,जालौनविकासखंडजालौनकेग्राममाडरीजलसंरक्षणकेलिएएकउत्तमउदाहरणहै।पानीकोबचानेकेलिएइसगांवमेंसौवर्षपहलेगांवकेलोगोंने52बीघाकातालाबबनाडालाथा।यहतालाबअभीभीपानीसेलबालबभरारहताहै।इसविशालजलाशयकीवजहसेगांवमेंकभीजलसंकटकासामनानहींकरनापड़ा।अगरइसीतरहसेलोगजागरूकतादिखातेरहेंतोजलसंरक्षणकीपहलसार्थकसाबितहोसकतीहै।पानीकेसंकटसेनिजातपाईजासकतीहै।

इसतालाबकोलेकरगांवकेलोगबतातेहैंकिलगभगडेढ़सौवर्षपहलेसूखापड़ाथा।जिससेपानीकीकिल्लतहोगईथी।तबग्रामीणोंनेमिलकरतालाबकीखुदाईकीथी।हरघरसेलोगफावड़ाकुदाललेकरतालाबकोखोदनेकेलिएपहुंचेथे।इसकासार्थकपरिणामभीनिकला।गांवमेंपानीकीसमस्याखत्महोगई।गांवकेलोगवर्षाजलसंचयनकामहत्वजानगए।पहलेकेलोगइसबातसेभलीभांतिवाकिफथेकिआनेवालेसमयमेंपानीकेसंकटकेसमययहीतालाबउपयोगीसाबितहोंगे।अबतकयहतालाबपानीसेलबालबरहताहै।खासबातयहभीहैकिजहांतमामतालाबोंपरलोगोंनेअतिक्रमणकरलियाहैतोइसगांवकायहविशालजलाशयइससमस्यासेमुक्तहै।गांवकेलोगतालाबकोसहेजनेकेप्रतिपूरीतरहसेगंभीरहैं।यहीवजहहैकिगांवकेलिएयहतालाबवरदानबनचुकाहै।गर्मीमेंबच्चोंकेलिएबनजातास्वीमिगपूल

गर्मीकेमौसममेंजबस्कूलबंदहोजातेहैंऔरबच्चेअवकाशकाआनंदलेतेहैंतबयहतालाबउनबच्चोंकेलिएकाफीराहतभरासाबितहोताहै।इसीतालाबमेंनहाकरबच्चेगर्मीसेनिजातपातेहैं।इनकेलिएयहदेशीस्वीमिगपूलसेकमनहींहै।पूरेगांवकेपशुओंकोमिलतापानी

जबगांवमेंहैंडपंपनहींथेतथाकुंआकीसंख्याकमथीतोलोगतालाबमेंजाकरहीपशुओंकोपानीपिलातेथे।आजभीगांवभरकेपशुइसीतालाबमेंपानीपीतेहैं।लोगकपड़ेभीइसीतालाबमेंधोतेहैं।दोवर्षपूर्वहुईतालाबकीसफाई

तालाबकेपानीकोहमेशासाफरखनेकाप्रयासकियाजाताहै।जिससेउसकेपानीकाउपयोगहोसकेतथापलनेवालीमछलियोंकोदिक्कतनहो।पानीगंदाहोनेपरदोवर्षपूर्वहीउसेसाफकियागयाहै।

Previous post गांव को सड़क से वंचित रखने से ग
Next post शहर से लेकर गांव तक पानी को हा