जमींदोज हो गई खाड़ा की स्वास्थ्य व्यवस्था

मधेपुरा।उदाकिशुनगंजप्रखंडकेखाड़ागांवस्थितअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रदशकोंपूर्वध्वस्तहोकरजमींदोजहुआचुकाहै।अस्पतालकेपुनर्निर्माणकीदिशामेंप्रयासनहींकियागया।इसकारणलोगोंकोस्वास्थ्यसुविधाकालाभनहींमिलपारहाहै।गांवकीस्वास्थ्यव्यवस्थाकाखस्ताहालहै।गांवमेंस्वास्थ्यव्यवस्थासुदृढ़नहींहोनेसेलोगोंकोपरेशानहोनापड़रहाहै।लोगग्रामीणचिकित्सककेभरोसेइलाजकरानेकोमजबूरहैं।व्यवस्थाकेअभावमेंगांवकेलोगोंकोलंबीदूरीतयकरइलाजकेप्रखंडमुख्यालयजानापड़ताहै।व्यवस्थाकोसुदृढ़किएजानेकेमामलेमेंजनप्रतिनिधिऔरअधिकारीउदासीनबनेहुएहैं।

कईगांवोंकेलोगोंकोमिलरहाथाफायदा

खाड़ागांवमेंअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रहोनेसेआसपासकेसिगारपुर,नवटोल,शाहजादपुर,बुधमा,सुखासनीआदिगांवकेलोगोंकोस्वास्थ्यसुविधाकालाभमिलरहाथा,लेकिनअस्पतालभवनकेध्वस्तहोनेकेसाथहीयहांसुविधामिलनाबंदहोगया।

पदकिएगएथेसृजितअस्पतालस्थापनाकेवक्तपदकाभीसृजनकियागयाथा।उसवक्तसृजितपदकेअनुसारचिकित्सकभीकार्यरतथे।अस्पतालमेंएकएमबीबीएसडॉक्टर,एकएएनएम,चतुर्थवर्गीयकर्मचारीकेपदसृजितकिएगएथे।

दोदशकपूर्वध्वस्तहुआथाअस्पतालकाभवनखाड़ागांवकाउपस्वास्थ्यकेंद्रकाभवनकरीब20वर्षपूर्वध्वस्तहुआ।उसकेबादअस्पतालबंदहोगया।अस्पतालकेपासकईएकड़अपनीजमीनहै,लेकिनअस्पतालकापुनर्निर्माणनहींहोपाया,जबकिअस्पतालबनानेकीमांगलंबेसमयसेचलीआरहीहै।इसेलेकरपत्राचारहोतारहा,लेकिनअमलनहींहोपाया।

मिलतेरहासिर्फआश्वासनअस्पतालबनानेकोलेकरक्षेत्रकेजनप्रतिनिधिऔरअधिकारीलोगोंकोमहजआश्वासनदेतेरहे।हरचुनावकेवक्तनेतावायदाकरतेरहेहैं,लेकिनधरातलपरकामनहींहोपाया।

20किमीदूरहैप्रखंडमुख्यालयखाड़ाऔरआसपासकेगांवकीप्रखंडमुख्यालयसे20किलोमीटरकीदूरीहै,जहांप्रखंडमुख्यालयमेंपीएचसीहै।वहांलंबीदूरीतयकरइलाजकेलिएजानामुश्किलहोताहै।इसवजहसेलोगगांवकेडॉक्टरपरहीइलाजकेलिएनिर्भररहतेहैं।बीमारलोगोंकोपीएचसीउदाकिशुनगंजपहुंचकरआजभीजांचवइलाजकरानाबेबसीबनीहुईहै।जबकिमलबेमेंतब्दीलखाड़ाकाप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रऔरस्वास्थ्यउपकेंद्रपुनर्निर्माणकेलिएपर्याप्तजमीनवर्षोंसेपरतीपड़ीहुईहै।लोगजताचुकेहैआक्रोशइलाकेकेलोगअस्पतालभवनकानिर्माणनहींहोनेपरआक्रोशजताचुकेहैं।ग्रामीणमु.रज्जाक,धनपतऋषिदेव,विलासपासवान,जालिमऋषिदेव,निरंजनकुमारपासवान,विजोऋषिदेव,रूपेशकुमार,अमितकुमार,शोभादेवी,बेचनीदेवी,रामचंद्रऋषिदेव,कैलाशऋषिदेव,सीतादेवी,जयमालादेवी,प्रभादेवीआदिनेसूबेकीसरकारऔरस्वास्थ्यविभागकेमंत्रीवअधिकारीकेखिलाफआक्रोशव्यक्तकियाथा।लोगोंकाकहनाहैकिसातवींबारनरेंद्रनारायणयादवविधायकबनेहैं।विधायकसरकारमेंकैबिनेटमंत्रीभीबने,लेकिनइसओरध्याननहींदिया।

बुनियादीस्कूलमेंशुरूहुआथाअस्पतालमालूमहोकि80सालपहलेराजकीयबुनियादीविद्यालयखाड़ाकेसमीपभौतिकस्वरूपमेंउप-स्वास्थ्यकेंद्रथा।बादमेंइसेअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रकाभीदर्जाप्राप्तहुआ।यहांआसपासकेपंचायतकीबड़ीआबादीइलाजकेलिएआतेथे।स्वास्थ्यकेंद्रभवनजर्जरहोनेकेबादपुन:60सालपहलेभवनकाजीर्णोद्धारकियागयाथा।समय-समयपरस्वास्थ्यकर्मीरिटायर्डहोतेगए।औरधीरे-धीरेस्वास्थ्यसेवाएंबदहालहोतीचलीगई।नएपदस्थापनकेप्रतिविभागउदासीनबनारहा।

वर्ष2005केबादभीसुशासनसरकारभीकभीइसओरध्यानआकृष्टनहींकिया।अंतत:अस्पतालभवनमलबेमेंतब्दीलहोगया।स्वास्थ्यसेवाएंपूरीतरहसेठपपड़गई।वर्ष2007मेंएकउपस्वास्थ्यकेंद्रकेअलावाएकअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकीभीस्वीकृतिदीगई।आजतकनतोउपस्वास्थ्यकेंद्रऔरनहीअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकापुनर्निर्माणकरायाजासका।मुख्यमंत्रीतकपहुंचाफरियाद,फिरभीनहींहुआइलाजविदितहोकिखाड़ानिवासीभालचंद्रझाकीपत्नीरश्मिझानेस्वास्थ्यव्यवस्थाकीदुर्दशादेखकरफरवरी2016मेंमुख्यमंत्रीजनतादरबारमेंऔरविभागीयलोकशिकायतनिवारणकेंद्रमेंफरियाददाखिलकीथी।जवाबीरिपोर्टमेंसिविलसर्जननेकहाग्रामपंचायतखाड़ामेंस्वास्थ्यभवननिर्माणकीस्वीकृतिप्राप्तहै।जमीननहींरहनेकेकारणनिर्माणकार्यबाधितहै।उसवक्तजमीनकोलेकरतत्कालीनसिविलसर्जननेगलतरिपोर्टसौंपाथा।

आंदोलनकीदीगईहैचेतावनीहालियादिनोंमेंखाड़ागांवकीडेजीदेवीनेजिलाधिकारीवअन्यअधिकारीकोईमेलकेजरिएआवेदनभेजकरआंदोलनकीचेतावनीदीहै।उनकाकहनाहैकिअस्पतालबनानेकीदिशामेंठोसकार्रवाईनहींहोनेपरअनशनकरेंगे।कोटछहमाहपहलेहीअस्पतालनिर्माणकोलेकरपूरीरिपोर्टवरीयअधिकारीकोसमर्पितकीगईहै।भवननिर्माणकामसरकारकरासकतीहै।वैसेसीएसकामौखिकआदेशहैकिखाड़ागांवमेंबिहारसरकारकेकिसीभवनमेंअस्पतालशुरूकियाजाए।जल्दहीगांवजाकरव्यवस्थासुनिश्चितकरेंगे।-डॉ.आइबीकुमार,प्रभारीचिकित्सापदाधिकारी,उदाकिशुनगंज

Previous post धरसड़ा गांव में दरवाजे का कब्जा
Next post मुजफ्फरपुर में डेढ़ किलो हीरोइ