खौफ ऐसा कि लाश उठाने की हिम्मत नहीं कर पा रहे थे परिजन

बदायूं:लधरपुरागांवमेंशुक्रवारकोदबंगईऔरआतंककाऐसाखौफनाकमंजरसामनेआया,जिसेदेखनेवालेउम्रभरनहींभुलासकेंगे।गांवमेंजहांपप्पूकीपीटनेकेबादगोलीमारकरहत्याकीगई।वहींहमलावरोंनेइतनाज्यादाखौफनाकमाहौलबनादियाकिपरिजनभीउसकाशवलेनेवहांजानेकीहिम्मतनहींजुटासके।जबकिहमलावरगांवमेंशवकेपासकाफीदेरतकखुलेआमखड़ेरहेऔरआसपासवालोंकोचेतातेरहे।

पप्पूकोघरसेपीटतेहुएलेगएआरोपित

प्रत्यक्षदर्शियोंकीमानेंतोचारोंआरोपितोंनेपप्पूकोउसकेघरकेदरवाजेपरघेराथा।वहांसेपीटतेहुएतकरीबनडेढ़सौकदमदूरअपनेइलाकेमेंलेगए।बचावमेंआएउसकेपिताजय¨सहऔरमांमुन्नीकोभीपीटा।जमकरमारपीटकरनेकेबादपप्पूकोगोलीमारदी।इतनेपरभीउसमेंसांसरहगईथीऔरवहकराहरहाथा।इससेबौखलाएहमलावरोंनेफिरसेलाठीमारनीशुरूकरदींऔरतबतकयहसिलसिलाचला,जबतकउसकीमौतनहींहोगई।इसकेबादभीहमलावरवहांडटेरहे,ताकिकोईशवलेनेपहुंचेतोउसकाभीयहीहश्रकरदें।इसीखौफकेचलतेपरिवारवालेभीवहांपहुंचनेकीहिम्मतनहींजुटापाए।पुलिसपहुंचीतोहमलावरभागनिकलेऔरशवपुलिसनेकब्जेमेंलिया।इंसेट

पुलिसभीबनीचकरघिन्नी

-गांवमेंकईथानोंकीपुलिसएकसाथपहुंचगईलेकिनदहशतइतनीथीकिलाखपूछनेकेबादभीकोईयहनहींबतापारहाथाकिपप्पूकाघरकौनसाहैऔरघटनास्थलकिधरहै।काफीदेरबादपुलिसकोपप्पूकेपरिजनमिलेऔरइसकेबादपुलिसघटनास्थलपरपहुंचसकी।इंसेट

यहरहीपारिवारिकस्थिति

पप्पूकेपरिवारमेंमातापिताकेअलावाभाईहरेंद्रहै।वहींउसकीपत्नीसुनीताकीपांचसालपहलेबीमारीकेचलतेमौतहोचुकीहै।दोबेटोंमेंसबसेबड़ापुष्पेंद्र(18)दिव्यांगहै।जबकिउससेछोटाअभिजीत(16),बेटीरत्नेश(14),प्रीता(10)औरगीता(8)हैं।खौफकेकारणयहपरिवारदरवाजाबंदकिएबैठारहा।उसकीमौतकेसाथहीपांचोंबच्चेअनाथहोगएहैं।इंसेट

यहरहीरंजिशकीवजह

लगभगडेढ़दशकसेगांवकाकोटामुख्यआरोपितजीवारामकीपत्नीकेनामथा।तीनमहीनेपहलेकोटानिरस्तहुआथा।इसकीशिकायतसेलेकरपैरवीतकपप्पूआगेबढ़करकामकरचुकाथा।दोबाराप्रस्तावहुआतोभीउसनेजीवारामपक्षकेकोटेदारकाखुलाविरोधकरकेछंगेकोकोटादिलायाथा।पिताकेमुताबिकपप्पूकोगोलीभीजीवारामनेहीमारीथी।जय¨सहऔरउसकेचचेरेभाईसुखपालकोभीहमलावरोंनेपीटाथा।

Previous post आंगनबाड़ी में बच्चों के नाम आनल
Next post सेहत विभाग ने घरों में किया सर