किसानों को उचित मूल्य दिलाना सरकार की प्राथमिकता में शामिल

सुपौल।जिलाकृषिकार्यालयपरिसरमेंरविवारसेआयोजितदोदिवसीयकृषियांत्रिकीकरणसहउपादानमेलाकाशुभारंभसूबेकेकृषिमंत्रीडॉ.प्रेमकुमारनेफीताकाटकरकिया।उद्घाटनपश्चातमंत्रीनेमेलेमेंलगेविभिन्नस्टॉलोंकानिरीक्षणकरनेकेबादसरायगढ़औरमरौनाप्रखंडमेंलाखोंरुपएकीलागतसेतैयारकिएगएई.किसानभवनतथामेघदूतयोजनाकेतहतजिलेकेसभीपंचायतोंमेंस्थापितमौसमयंत्रोंकालोकार्पणकिया।तत्पश्चातविभागद्वाराआयोजितकिसानसंगोष्ठीकोसंबोधितकरतेहुएमंत्रीनेसरकारद्वाराकिसानोंकेलिएसंचालितविभिन्नयोजनाओंकेबारेमेंविस्तृतरूपसेचर्चाकरतेहुएकहाकिसरकारकाप्रयासहैकिअन्नदाताओंकीआयदोगुनीहो,इसकेलिएसरकारखेतीकीलागतकोकमकरउत्पादनकोबढ़ानेकेसाथ-साथउन्हेंउचितबाजारउपलब्धकरानेकीदिशामेंकामकररहीहै।मंत्रीनेकहाकिकिसानीलागतकोकमकरनेकेलिएमिट्टीजांचकीव्यवस्थाकीगईहै।मिट्टीजांचसेनसिर्फमिट्टीकीसेहतकोबचायाजासकताहैबल्किघुलेतत्वोंकासही-सहीपताकरउर्वरककीमात्राकोनियंत्रितकरकृषिलागतकोहमकरसकतेहैं।कहाकिबेहतरऔरअधिकउपजकेचक्करमेंआजहममिट्टीकीसेहतसेखिलवाड़कररहेहैं।पंजाबजैसेप्रांतोंमेंइसकाखामियाजाअबलोगोंकोदिखनेलगाहै।यहांकेकिसानोंनेमिट्टीकीसेहतकेसाथजिसतरहखिलवाड़कियाउसकापरिणामहैकिआजइनप्रांतोंमेंकैंसरजैसीमरीजोंकीसंख्याबढ़चलीहै।राज्यमें92फीसदछोटेऔरसीमांतकिसानहैं।ऐसेकिसानोंकोआगेलानेकेलिएसामूहिकखेतीप्रणालीकोप्रोत्साहितकियाजारहाहै।इसकेअलावाकृषिलागतकोकमकरनेकेलिए¨सचाईव्यवस्थाकोसु²ढ़बनानेकीदिशामेंसरकारखेतोंतकबिजलीपहुंचानेकाकामकररहीहै।खेतीपरकिसानोंकीनिर्भरताकमकरनेवउनकीआमदनीकोबढ़ानेकेलिएसमेकितकृषिप्रणालीकोबढ़ावादियाजारहाहै।जिसकेतहतखेतीकेसाथ-साथमशरूम,मखाना,पशुपालन,बकरीपालन,मुर्गीपालन,मछलीपालनकोप्राथमिकताकेतौरपरलियाजारहाहै।इसकेलिएकिसानोंकोकौशलविकासकेंद्रकेमाध्यमसेप्रशिक्षितभीकियाजारहाहै।किसानोंकोबाजारउपलब्धकरानावउत्पादनकाउचितमूल्यदेनासरकारकीप्राथमिकतामेंशामिलहै।मंत्रीनेकहाकिकिसानोंकेपाससबसेबड़ीसमस्याउन्हेंबाजारनहींउपलब्धहोनाऔरउसकेउत्पादनकाउन्हेंउचितमूल्यनहींमिलनाहै।इसकेलिएप्रदेशमें50000समितियोंकोविकसितकियाजारहाहै।इनबाजारसमितियोंपरमूल्यकाबैनरलगारहेगा।ताकिकिसानोंकोहरवस्तुकामूल्यउन्हेंपताचलसकेऔरकिसानकेसाथहकमारीनाहोसके।इसीक्रममेंमशरूमजैसेखेतीकोबढ़ावादेनेऔरकिसानोंकोउनकेऊपरकाउचितमूल्यदेनेकेलिएविद्यालयोंमेंसंचालितमिडडेमीलऔरस्वास्थ्यविभागमेंजारीमीनूमेंमशरूमकोजोड़ेजानेकीबातकीजारहीहै।ताकिकिसानोंकोबाजारपरनिर्भरताकमरहेऔरउन्हेंबाजारभीमिलसके।मंत्रीनेकहाकिआजहमसुनानेनहींबल्किकिसानोंसेसुननेआएहैं।जिसपरकईकिसानोंनेअपनी-अपनीबातेंरखी।

स्थानीयसमस्याकीओरकिसानोंनेमंत्रीकाध्यानकरायाआकृष्ट

जिलेकेकिसानशेषनाथ¨सह,सत्यनारायणसहनोगिया,सुमनकुमारपंकज,अर¨वदकुमार,सत्यनारायणआदिनेकहाकिनिश्चितहीसरकारकेद्वाराकिएगएप्रयाससेवेलोगफलीभूतहोरहेहैं।परंतुकुछऐसीसमस्याएंहैंजोआजभीकिसानोंकोआगेबढ़नेमेंबाधकबनाहुआहै।जबतक¨सचाईव्यवस्थाकोदुरुस्तनहींकियाजाएगातबतककिसानोंकीलागतकमकरनेकीबातबेमानीहोगी।कुछकिसानोंनेकृषिमेलामेंट्रैक्टरकोशामिलकरनेकीमांगकरतेहुएकहाकिमेलामेंअधिकांशयंत्रट्रैक्टरचालितहै।ऐसेमेंमेलामेंट्रैक्टरकोशामिलनहींकरनाउचितनहींहै।इसकेअलावासमयपरखादबीजनहींउपलब्धहोनेकीबातभीकिसानोंनेमंत्रीकोसुनाईजिसपरमंत्रीनेजिलाकृषिपदाधिकारीकोनिर्देशदेतेहुएकहाकिकिसानोंकीसमस्यासेसंबंधितरिपोर्टउन्हेंभेजें।ताकिसंबंधितमंत्रालयसेमिलकरइनकीसमस्याकासमाधानकियाजासके।

इसमौकेपरसंयुक्तनिदेशकसहरसाप्रमंडलरामप्रबोधठाकुर,जिलाकृषिपदाधिकारीप्रवीणकुमारझा,सहायकनिदेशकउद्यानविजयपंडित,भाजपाजिलाध्यक्षरामकुमारराय,जदयूकेजिलाध्यक्षरामविलासकामत,युगलकिशोरअग्रवाल,रामचंद्रयादव,कृषिवैज्ञानिकविपुलमंडल,विजयशंकरचौधरी,महेशदेव,सरोजझासमेतसभीप्रखंडकृषिपदाधिकारी,कृषिसमन्वयक,एटीएम,बीटीएम,किसानसलाहकार,उर्वरकविक्रेतासहितकिसानउपस्थितथे।

Previous post रसोई गैस सिलेंडर लेकर सयुस का
Next post गांवों में सपा शासनकाल की गिना