कुएं का प्रदूषित पानी पीने को विवश है आदिवासी परिवार

श्रीबंशीधरनगर:प्राकृतिकछटाओंसेपरिपूर्णजंगलपहाड़केबीचबसेप्रखंडकेझुमरीगांवकाआदिवासीपरिवारआजभीकुएंकाप्रदूषितपानीपीनेकोमजूबरहैं।वैसेतोगांवकीकईसमस्याएंहैं,परपेयजल,सिचाईवसड़ककीसमस्यागंभीरहै।मुख्यपथसेगांवतकजानेकेलिएपक्कीसड़कतोबनीहुईहै,परगांवकेभीतरकीसड़कआजभीबदहालहै।गांवमेंसर्वाधिकआबादीआदिवासियोंकीहै।गांवमेंखरवारवयादवजातिकीबहुलताहै।ग्रामीणरमेशविश्वकर्मा,मंदीपयादवनेकहाकिगांवकीसबसेबड़ीसमस्यापेयजल,सिचाई,सड़कवरोजगारकीहै।रोजगारकेअभावमेंगांवकायुवावर्गरोजी-रोटीकीतलाशमेंसालकेदसमाहघरवारछोड़करअन्यप्रदेशोंमेंसमयव्यतीतकरताहै।ग्रामीणकहतेहैंकियदिगांवकेबघौतानदीपरबांधबनादियाजाएतोसिचाईकेलिएपर्याप्तपानीमिलेगा।वहींजलस्तरभीऊपरआएगा।जलस्तरऊपरआनेसेपेयजलसंकटकासमाधानहोगा।गांवकेरामधनीसिंहखरवार,दुखीसिंहखरवार,भीखूसिंहखरवार,ललितादेवी,संगीतादेवी,उषाकुमारी,सोनीकुंवर,श्रद्धादेवीआदिनेकहाकिगांवकीसबसेबड़ीसमस्यापेयजलकीहै।रामधनी,ललिता,संगीता,सोनी,श्रद्धाआदिनेकहाकिकरीबअस्सीघरआदिवासियोंकाहै।परचलनेकेलिएनतोअच्छीसड़क हैऔरनाहीपीनेकाशुद्धपानी।करीब80घरकेआदिवासियोंकोपेयजलकेलिएमात्रदोहैंडपंपलगायागयाहै।जिसमेंपानीनहींकेबराबरहै।लिहाजाहमसबकुएंकाप्रदूषितपानीपीनेकोबाध्यहैं।गर्मीमेंपेयजलसंकटऔरविकरालरुपधारणकरलेताहै।बड़ीमशक्कतकेबादपीनेकेपानीकाजुगाड़होताहै।गांवमेंग्रामीणविद्युतीकरणकेतहतआधेगांवमेंबिजलीकाखंभावतारतोलगादियागयाहै।परविभागकेद्वाराविद्युतकनेक्शनग्रामीणोंकोनहींदियागयाहै।जिसकेकारणगांवमेंबिजलीआनेकेबादभीगांवअंधेरेमेंहै।

Previous post पुणे के एक गांव का फैसला, इलाक
Next post Rajasthan: मां ने धारदार हथिया