महिला मतदाताओं को साधना बड़ी चुनौती

जागरणसंवाददाता,फरीदकोट

आधीआबादीकोसाधनेकेलिएपार्टियांलोक-लुभवनवादोंसेअपनीओरआकर्षितकरनाचाहरहीहै।महिलामतदाताओंकोअपनेसाथदिखानेकेलिएसार्वजनिकबैठकोंवरैलियोंमेंभीउन्हेंबड़ीसंख्यामेंलायाजारहाहै।राजनीतिकदलोंकायहदांवकितनाउपयोगीहोगायातो10मार्चकोमतगणनाकेबादपताचलेगा।

चुनावमैदानमेंतालठोंकरहीसभीप्रमुखपार्टियांवगठबंधनमहिलामतदाताओंकोलुभानेकेलिएतरह-तरहकेलुभावनेघोषणाएंकररहीहीं।कोईइन्हेंप्रतिमाहआर्थिकमददस्वरूपराशिदेनेकीबातकररहाहैतोकोईसालमेंआठसिलेंडरकीबातकररहहै।बड़ासवालयहहैकियहराजनीतिकदलऐसाक्योंनहींकरतेजिससेमहिलाओंकेजीवनस्तरमेंसुधारहोऔरउन्हेंमददकीजरूरतनपड़ेऔरवहमददकरनेवालीस्वालंबीबने।

फरीदकोटजिलेकीतीनोंविधानसभाओंमेंप्रत्याशियोंनेअपनीपत्नियोंवबेटियोंकोचुनावप्रचारमेंमहिलावोटरोंकोअपनेपालेमेंलानेकेलिएलगारहाहै,चुनावप्रचारकररहीप्रत्याशियोंकीपत्नियांकोभीअपनीपार्टीकीरीति-नीतिकेबारेमेंज्यादाकुछपतानहींहै।बसइतनाहीवहकहतेहुएदेखीजारहीहै,बहनफलाचुनावचिन्हृपरवोटजरूरदेना,उनकीअपीलसुननेवालीमहिलाएंसोचरहीहैकिवहइन्हेंजनतीभीनहीऔरइनकेकहनेपरइनकेपतिकोक्योंवोटदें।

जिलेकीविधानसभाओंमेंमहिलामतदाताओंकेसमझयूंतोसभीमुद्देपुरुषोंकेभांतिहीहै,वहभीअपनेवअपनेसमाजवदेशकीबेहतरीकेलिएबेबाकीसेअपनीबातरखतीहै,परंतुराजनीतिदलोंउन्हेंवोटबैंकमेंदेखरहेहैं।इसकेलिएपुरूषोंकोअपनेपालेमेंकरनेकेसाथमहिलाओंकोभीपुरूषोंकेसाथआनेकोमानलेतेहैं।अबयहदेखनेवालीबातहोगीजिलेकीमहिलामतदाताराजनीतिकदलोंकिनवादोंपरध्यानदेतीहैऔरकिनवादोंकोलोकलुभावनमानकरछोड़देतीहै।

Previous post हाथियों का नहीं थम रहा है आतंक
Next post पेड़ों में लाल फीता बांध लिया प