महिला उत्पीड़न पर अधिकारी त्वरित कार्रवाई करें

हरदोई:राज्यमहिलाआयोगकीसदस्यरश्मिजायसवालनेकहाकिपुलिस-प्रशासनिकअधिकारीमहिलाउत्पीड़नएवंसमस्यानिराकरणकेलिएत्वरितकार्रवाईकरें।महिलाओंकीआयोगतकशिकायतेंपहुंचनागंभीरबातहै।ऐसेमेंस्थानीयस्तरपरप्रभावीकार्रवाईनहींहोपारहीहैऔरपीड़ितमहिलाओंकोसमयसेन्यायनहींमिलपारहाहै।

आयोगकीसदस्यनेबुधवारकोलोकनिर्माणविभागकेगेस्टहाउसमेंजनसुनवाईमेंमहिलाओंसेजुड़ेनौप्रकरणोंपरसुनवाईकी।जिसमेंसातकामौकेपरनिराकरणकराया,जबकिदोप्रकरणमेंआवासकीसमस्यापरटड़ियावांबीडीओकोप्रकरणसौंपे।कहाकिअगलीसुनवाईसेपहलेनिस्तारणहोजानाचाहिए।वहींजिलेमेंमहिलाउत्पीड़नकीदर्जमामलोंएवंउनपरकीगईकार्रवाईकीजानकारीली।

क्षमतासेतीनगुनामिलींबंदी:आयोगकीसदस्यनेजिलाकारागारकीमहिलाबैरककानिरीक्षणकिया।महिलाओंकोस्वावलंबीबनानेकेलिएप्रशिक्षणदिलानेकीजानकारीली।सिलाईकाप्रशिक्षणदिलायाजारहाहै।वहींकिचनकानिरीक्षणकियाऔरभोजनकेसंबंधमेंजानकारीली।बैरकमेंबंदियोंकीसंख्या96बताईगई।इसपरउन्होंनेक्षमताकीजानकारीकी,तोबतायाकि30बंदीकीस्वीकृतिहै।उन्होंनेकहाकिवहशासनकोएकऔरमहिलाबैरकनिर्माणकाप्रस्तावभिजवाएंगी,ताकिमहिलाओंकोरहनेमेंअसुविधानहोनेपाए।डीपीओसुशीलकुमार,जेलअधीक्षकबृजेंद्रकुमार,जेलरमृत्युंजयपांडेय,सहपरवीक्षाअधिकारीसंजीवश्रीवास्तवमौजूदरहे।

Previous post कोटकपूरा का एएसआइ और टहिना की
Next post एंबुलेंस न मिलने पर पालकी में