पानी के लिए खुद कूल बनाने में जुटे गांव के युवा

संवादसहयोगी,बसोहली:तहसीलकेगांवहट्टकछीड़केनिवासीछहमाहसेपानीकोतरसरहेहैं।गांवमेंपेयजलआपूर्तिकेप्रभावितहोनेकेकारणग्रामीणोंकोकईप्रकारकीपरेशानियोंकासामनाकरनापड़रहाहै।

गांवनिवासियोंनेबतायाकिगांवमेंसड़कबनानेकाकामलगाऔरपानीकीपाइपेंएवंगांवकोपानीकीआपूर्तिकादूसरास्रोतकूलइसमेंखराबहोगई।तभीसेकिसीनेइसओरध्याननहींदिया।स्थानीयनिवासियोंकोभीषणगर्मीमेंभीपानीकेलिएमीलोंकासफरकरनापड़रहाहै।बरसातमेंकुछचश्मोंनेगांववासियोंकोराहतप्रदानकी,जिससेउनकोपानीकीपरेशानीनहींहुई,मगरअबसर्दियांहोनेपरलोगोंकोसुबहठिठुरतेहुएपानीकेलिएभागदौड़करनीपड़ेगी।उन्होंनेबतायाकिप्राकृतिकस्रोतगांवसेडेढ़किलोमीटरदूरहैं,जिससेलोगोंकासमयबरबादहोरहाहै,वहींपढ़ाईपरअसरपड़रहाहै।आजगांवकेनिवासियोंनेखुदपानीकीआपूर्तिकरनेकेलिएकूलकोबनानेकाकार्यशुरूकियाताकिउन्हेंआनेवालेदिनोंमेंनहाने,कपड़ेधोने,मालमवेशियोंकेलिएएवंघरेलूजरूरतोंकोपूराकरनेकेलिएपानीकोगांवतकपहुंचानेकेलिएगांवकेयुवापिछलेतीनदिनोंसेखुदकार्रवाईकरनेमेंलगेहैं।

गांवकेनिवासियोंअभिषेकसिंह,नरेशसिंह,तिलकसिंह,अजीतसिंह,रहमतअली,सराजदीनआदिनेबतायाकिपूर्वविधायकजगदीशराजसपोलियानेउनकेगांवकोकूलदेकरतोहफादियाऔरजबगांवकेलिएसड़ककाकामपूराहुआतोगांवकेनिवासियोंनेठेकेदारोंएवंविभागकेअधिकारियोंकेआगेफरियादलगाईकिक्षतिग्रस्तहुईकूलकीमरम्मतकीजाए,मगरकिसीनेनहींसुनीऔरकूलकोक्षतिग्रस्तकरचलेगए।गांवकेलोगपिछलेछहमाहसेकूलकेठीकहोनेकाइंतजारकरतेरहेमगरजबकोईनहींआयातोगांवकेसभीघरोंकेयुवाओंनेकूलबनानेकाबीड़ाउठायाहैऔरकूलबनानेकाकामजारीहै।

Previous post फसल अवशेष प्रबंधन में खरावड़ गा
Next post चारों भाइयों का मिलन देख नम हु