Panchayati Raj Diwas: मिसाल बना पंजाब का यह गांव, कचरा प्रबंधन से पाई निजात; गंदे पानी को बनाया कृषि योग्य

धर्मेंद्रसचदेवा,समराला(लुधियाना)।PanchayatiRajDiwas:शहरोंकेसाथ-साथगांवोंमेंभीपर्यावरणकोबेहतरबनानेकेलिएलगातारप्रयासकिएजारहेहैं।इसकाअसरजमीनीस्तरपरदिखनेलगाहै।समरालाकेगांवचैहलाकेलोगोंनेपर्यावरणसंरक्षणकेलिएएकजुटतादिखाईऔरगांवकीतस्वीरबदलदी।कभीकचरेकीसमस्यासेजूझरहेइसगांवकाचयनकचराप्रबंधनऔरवाटरट्रीटमेंटपरबेहतरकामकेआधारपरनानाजीदेशमुखराष्ट्रीयगौरवग्रामसभापुरस्कारकेलिएहुआहै।

गांवकेसरपंचजगदीपसिंहनेबतायाकिगांवमेंप्लास्टिककाकचराबड़ीसमस्याबनगयाथा।जगह-जगहकचरेकेढेरसेगांववासीकाफीपरेशानथे।पंचायतनेगांवकेलोगोंकेसाथबैठककरइससमस्याकाहलनिकालनेकीसोची।राउंडग्लासफाउंडेशननामकीएकसंस्थानेग्रामीणोंकोकचराप्रबंधनकेलिएप्लांटलगानेकासुझावदियाऔरसहयोगकाभरोसाभीदिया।

पंचायतकेप्रतिनिधियोंनेघर-घरजाकरलोगोंकोसालिडवेस्टमैनेजमेंटकेबारेमेंप्रेरितकियाऔरइसमुहिमसेजुड़नेकीअपीलकी।सबसेपहलेकूड़ाकलेक्शनकीव्यवस्थाबनाईगई।पंचायतनेएकई-रिक्शाखरीदाऔरघर-घरसेबिनाशुल्ककूड़ाकलेक्शनकाकामशुरूकिया।इसकेइकट्ठाकरनेकेलिएगांवकेबाहरएकचैंबरकानिर्माणकियागया।इसकेबादइसचैंबरकेनजदीकहीएकसालिडवेस्टमैनेजमेंटप्लांटलगायागया।यहांपरकूड़ेकोप्रोसेसकियाजानेलगा।इससेकुछहीमाहमेंकूड़ेकीसमस्यासेनिजातमिलगई।

नर्सरीतैयारकरबढ़ाईआय

सरपंचजगदीपसिंहकेअनुसारपंचायतनेपर्यावरणसंरक्षणकेलिएगांवमेंनर्सरीतैयारकी।यहांबड़ेस्तरपरपौधेतैयारकरगांवमेंपौधरोपणकीमुहिमशुरूकी।इसकेअलावाअन्यपंचायतोंकोपौधेबेचकरआयभीबढ़ाई।इसनर्सरीकोमनरेगाकेतहतविकसितकियाऔरइसकारखरखावकिया।सरपंचजगदीपसिंहकाकहनाहैकियहपूरेगांवकेलिएगर्वकाविषयहैकिहमारीपंचायतकाचयननानाजीदेशमुखराष्ट्रीयगौरवग्रामसभापुरस्कारकेलिएहुआहै।इससेहमेंआगेऔरबेहतरकरनेकीप्रेरणामिलेगी।

ट्रीटमेंटप्लांटबनापुनर्जीवितकियाछप्पड़

कचराप्रबंधनकेबादसबसेबड़ीचुनौतीथीगंदेछप्पड़(तालाब)केपानीकोट्रीटकरकेइसेइस्तेमालयोग्यबनाना।इसकेअलावासंतबलबीरसिंहसीचेवालकेमाडलकोअपनातेहुएवाटरट्रीटमेंटप्लांटलगाया।छप्पड़केपानीकोट्रीटकरनेकेलिएतीनचैंबरबनाएगए।पूरेगांवकेसीवरेजसिस्टमकोइसप्लांटसेजोड़ागयाहै।पहलेचैंबरमेंपानीकोडालनेकेबादपानीमेंमौजूदकचरानीचेबैठजाताहै।इसकेबादइसेपाइपोंकेसहारेदूसरेचैंबरमेंभेजाजाताहै।यहांऔरशुद्धकियाजाताहै।इसकेबादइसेतीसरेचैंबरमेंडालकरयहांसेसिंचाईकेलिएसप्लाईकियाजाताहै।अपशिष्टपदार्थकोखादकेरूपमेंइस्तेमालकियाजाताहै।

परालीकेप्रदूषणसेमुक्तिकेलिएखरीदेदोसुपरसीडर

परालीकाप्रदूषणपूरेपंजाबमेंबड़ीसमस्याहै।इससेनिजातपानेकेलिएपंचायतनेअपनेस्तरपरदोदोसुपरसीडरखरीदे।इससेपरालीकोखेतमेंहीनष्टकरमिट्टीमेंमिलादियाजाताहै।सुपरसीडरबिनाकिसीशुल्ककेकिसानोंकोदिएजातेहैं।इनकेरखरखावकाखर्चपंचायतहीवहनकरतीहै।किसानजगजीतसिंहऔरबलविंदरसिंहकाकहनाहैकिइससेपरालीकेप्रदूषणसेतोनिजातमिलीही,साथहीपैदावारमेंभीवृद्धिहुई।

Previous post तिलक में जा रहा था विजय, रास्त
Next post पेयजल संकट से जूझ रहे चिरैया क