पहले ही लिखी जा चुकी थी पटकथा, अब दिया गया अंजाम

राजेंद्रयादव,प्रयागराज:औद्योगिकक्षेत्रथानाकेचकपूरेखुर्दमियांकापूरागांवमेंमंगलवारदेररातहुईमां-बेटीकीहत्याकीपटकथापहलेहीलिखीजाचुकीथी।नामजदहुएआरोपितोंमेंशामिलनवनीलमिश्र,उसकेपितामहेशनारायणमिश्रनेखुलेआमबजरंगबहादुरपटेलऔरउसकेभाइयोंकोधमकीदीथीकिएक-एककरपूरेपरिवारकोखत्मकरदेंगे,घरमेंदीयाजलानेवालाकोईनहींहोगा।बुधवारकोमृतकाप्रेमाकीपुत्रीमंजूऔरअन्यस्वजनयहीसबबातकहकरबिलखरहेथे।

चकपूरेखुर्दमियांकापूरागांवनिवासीनवनीतमिश्रपुत्रमहेशनारायणमिश्रकीकरीबढाईवर्षपहलेगांवकेबाहरगोलीमारकरहत्याकरदीगईथी।घटनाकीवजहबच्चोंकेबीचझगड़ाथा।मामलेमेंबजरंगबहादुरपटेलकेभाइयोंवपुत्रोंकोनामजदकियागयाथा।कुलचारआरोपितबनाएगएथे।इसमेंअभीएकजेलमेंहै,जबकितीनजमानतपरलगभगचारमाहपहलेछूटेहैं।बजरंगबहादुरहीइसपूरेमामलेमेंपैरवीकररहेहैं।इसेलेकरआरोपितलगातारउनकोधमकातेरहतेथे।कचहरीपरिसरकेसाथहीरास्तेमेंकहींभीमिलनेपरउनकोधमकीदेतेथेकिपूरेपरिवारकोखत्मकिएबिनादमनहींलेंगे।यहीबातवहगांवमेंघूम-घूमकरकहतेथे।इसेलेकरबजरंगबहादुरऔरउनकेभाईकेपरिवारकेलोगहमेशाचौकन्नारहतेथे,क्योंकिनवनीलमिश्रदबंगप्रवृत्तिकाथा।मंगलवारदेररातजबघटनाहुईऔरबुधवारकोगांवकेलोगोंकोइसकीजानकारीहुईतोपहलेदीगईधमकीकीबातसामनेआगई।सूचनापाकरमायकेपहुंचीमृतकाप्रेमीकीबड़ीपुत्रीमंजूभीधमकीकीयहीबातदोहरातीरही।बजरंगबहादुरकेभाइयोंकेस्वजनभीयहीकहतेरहे।साथहीयहभीबतायाकिधमकीदेनेकीजानकारीऔद्योगिकक्षेत्रथानेकीपुलिसकोकईबारदीगईथी,लेकिनकोईकदमनहींउठायागया।हालांकि,उससमयतहरीरदीगईथीयानहीं,इसकावहजवाबनहींदेसके।बस,इतनाकहाकिसूचनादीगईथी।

अफसरोंकेसामनेनिकाललीथीपिस्टल

नवनीलमिश्रकीदबंगईकिसकदरथी,उसकाअंदाजाइसीसेलगायाजासकताहैकिउसनेपुलिस-प्रशासनकेअधिकारियोंकेसामनेपिस्टलनिकाललीथी।अभीकुछमाहपहलेऔद्योगिकक्षेत्रमेंयूनाइडेटइंजीनियरिगकालेजकेसामनेमाफियादिलीपमिश्रकामकानजमींदोजकियागयाथा।उसीसमयनवनीलवहांपहुंचाथाऔरमकानढहाएजानेकाविरोधकरतेहुएउसनेअपनीलाइसेंसीपिस्टलनिकाललीथी।हालांकि,पुलिसनेउसेगिरफ्तारकरजेलभेजदियाथा।

Previous post मनरेगा स्कीम में काम पर न लगान
Next post बुजुर्ग महिला से पर्स झपट ले ग