परंपरागत नृत्य-गीत हमारी सांस्कृतिक पहचान : विधायक

चैनपुर,पलामू:परंपरागतनृत्यगीतहमारीसांस्कृतिकपहचानहै।सदियोंसेचलीआरहीपरंपराएंपर्वत्योहारआदिधरोहरहैं।हमेंइसेअक्षुण्णबनाएरखनाहोगा।

उक्तबातेंस्थानीयविधायकसहवनविकासनिगमकेअध्यक्षआलोककुमारचौरसियानेकहीं।वेशुक्रवारकोचैनपुरप्रखंडकेजयनगरागांवमेंआयोजितजतराकार्यक्रमकेसम्मानसमारोहमेंबोलरहेथे।उन्होंनेकहाकिपर्वत्योहारसेपरस्परसमन्वयप्रेमवसौहार्दकावातावरणकायमहोताहै।इसेमिलजुलकरमनाएं।रांचीमांडरकेबीडीओविष्णुदेवकक्षपनेकहाकिसदियोंसेचलीआरहीहमारीसनातनसभ्यतासंस्कृतिवसंस्कारगौरवशालीहैं।हमेंइसपरकायमरहतेहुएअपनीपरंपराओंकोबनाएरखनाहोगा।इसकेपूर्वगांवकेमध्यस्थितअखरापरनृत्यकरतेहुएअतिथियोंकास्वागतकियागया।अखरापरअनादिधर्मेशचालाआयोकीपूजाकीगई।जयधर्मेशकीगूंजसेक्षेत्रगुंजायमानहोतारहा।पूजाअर्चनाकेबादनृत्यगीतकाकार्यक्रमकियागया।कार्यक्रममेंजिलापाहन¨बदेश्वरउरांव,अद्दिकुडुखसरनासमाजकेअध्यक्षसियोनबाखला,श्यामलालउरांव,सतीशउरांव,चियांकीकीपंचायतसमितिसदस्यबसंतीदेवी,प्रो.कमलेशपांडेय,प्रो.सतेंद्रपांडेयआदिमौजूदथे।कार्यक्रमसंचालनमेंयूगेश्वरउरांव,संजयउरांव,संतोषउरांव,नागेंद्रउरांवआदिनेमहत्वपूर्णभूमिकानिभाई।

कलाकारोंकाहुआजुटान,मांदरकीथापपरझूमेलोग

संवादसूत्र,चैनपुर:जयनगरागांवमेंशुक्रवारकोआयोजितजतरामेंजिलेकेछतरपुरपिपरापाटनपांकीसतबरवासमेतचैनपुरकेविभिन्नगांवोंसेजनजातीयनृत्यगीतमंडलीववाद्ययंत्रकलाकारोंकाजुटानहुआ।मांदरकीथापपरयुवकयुवतियांथिरकतेनजरआए।नृत्यगीतोंसेकलाकारोंनेसमांबांधेरखा।बॉक्स:

नगाड़ावमांदरकियाभेंट,चैनपुर:जतरामेंशिरकतकरनेआएबीडीओविष्णुदेवकच्छपनेविभिन्नमंडलियोंकोनगाड़ामांदरआदिवाद्ययंत्रभेटकिया।उन्होंनेसभीमंडलियोंकोपांचपांचसौरुनगदराशिदेकरसम्मानितकिया।मौकेपरउन्होंनेगांवकेआर्थिकरूपसेकमजोरबच्चोंकीपढ़ाईमेंआर्थिकमददसहितअन्यसहयोगकरनेकीबातकही।इसकेअलावाउन्होंनेगांवकेअसहायलोगोंकेलिएसौकंबलदेनेकीघोषणाकी।

Previous post HOLI 2021: राजा राम जी के रंग
Next post कोर्ट मैरिज के बाद युवती को घर