सभी चाहते हैं संस्कारी बहु, बेटी कोई नहीं चाहता

संवादसहयोगी,बिलावर:प्यारकरनेवालीमाकीचाहतहरकोईरखताहै,घरमेंएकसुंदरसंस्कारीबहुआएइसकीचाहसबकोहोतीहै,लेकिनघरमेंबेटीकाजन्महोयहसबकोनागवारगुजरताहै।आखिरऐसाइससमाजमेंक्योंहोरहाहै।जहाएकमहिलाहीमहिलाकीदुश्मनबनीबैठीहै।

यहबातआर्दशहायरसेकेंडरीस्कूलकेप्रधानाचार्ययश्पालगुप्तानेबेटीबचाओ-बेटीपढ.ाओपरआयोजितभाषणप्रतियोगिताकोसंबोधितकरतेहुएकही।उन्होंनेकहाकिलड़कियोंकोपढ़ानाऔरउन्हेंबचानाहीहमाराधर्महै,लेकिनरुढ़ीवादीविचारधाराकेकारणउनकेसाथभेदभावहोताहै।बच्चियोंकीमाकीकोखमेंहीभू्रणहत्याकरादीजातीहैं।गुप्तानेकहाकिअबजमानाबदलचुकाहै।यहादेशकीप्रधानमंत्रीसेलेकरराष्ट्रपतितकमहिलारहचुकीहै।तोमोदीसरकारमेंएकनहींपाच-पाचमहिलामंत्रीहैं।इसमेंनिर्मलासीतारमनरक्षामंत्रीतोसुषमास्वराजविदेशमंत्रीकापदभारसंभालरहीहैं।हमारेजिलेकीडीसीऔरएसएसपीतकमहिलारहचुकीहैं।तोफिरलड़कियोंकेसाथसौतेलाव्यवहारक्यों।

भाषणप्रतियोगितामेंअक्षितानेपहला,प्राचीमहाजननेदूसराऔरप्रिंयकाटोपनूनेतीसरास्थानहासिलकिया।जिन्हेंमुख्यअतिथिनेस्मृतिचिन्हदेकरसम्मानितकिया।मंचसंचालनरविंद्रसिंहनेकिया।

Previous post जहरीला पदार्थ निगलने से महिला
Next post एक नजर