शिवरात्रि को लेकर प्राचीन झखरी महादेव से निकली कलश यात्रा

दानापुर।महाशिवरात्रिकोलेकरनगरकेगोलारोडझखरीमहादेवस्थितप्राचीनशिवमंदिरसेकलशयात्रानिकालीगई,जिसमेंबड़ीसंख्यामेंशिवभक्तशामिलहुए।गाजे-बाजेकेसाथनिकलीकलशयात्रागोलापरगाभतलतकियापरहोतेहुएनासरीगंजघाटपरपहुंची,जहांकलशमेंगंगाजलभरागया।नासरीगंजघाटसेकलशमेंजलभरकरदानापुरकेविभिन्नमार्गोंसेहोतेहुएपुन:झखरीमहादेवमंदिरकेप्रांगणमेंजाकरकलशयात्रासम्पन्नहुआ।इसकेसाथअखंडहरिकीर्तनप्रारंभहुआ।साथहीगुरुवारकोहोनेवालीदेवाधिदेवमहादेववमातापार्वतीकेविवाहकोलेकरमंदिरकीओरसेपूरीतैयारीकीगई।कलशयात्रामेंविधायकरीतलालराय,वार्डपार्षदशशिशर्मा,कुणालशर्मा,भोलाकालादेव,बुचीराय,राजकुमारसाव,शंकरराय,नंदामाझीसमेतसैकड़ोंश्रद्धालुशामिलहुए।आयोजकोनेबतायाकिमंगलवारशामसेशुरूहुआअखंडकीर्तनबुधवारकीशामसमाप्तहोगा।गुरूवारकीसुबहसेजलभिषेकशिवलिगकीपूजा-अर्चनाकीजाएगीऔररात्रिमेंशिव-पार्वतीकाविवाहसंपन्नहोगा।

संसारमेंसबसेपवित्ररिश्तामित्रताका:छोटेबापू

बिहटा।प्रखंडकेविलापदेवीमंदिरमेंचलरहीश्रीमद्भागवतकथाकेनौवेंदिनधूमधामसेश्रीकृष्णजन्मोत्सवमना।भगवानश्रीकृष्णकीएकझलकपानेकेलिएश्रद्धालुओंकाउत्साहदेखतेबनरहाथा।कथापंडालमेंबालरूपश्रीकृष्णकेआतेही'नंदघरआनंदभयो,जयकन्हैयालालकी'केजयकारोंसेगुंजायमानहोगया।इसअवसरपरकथावाचकछोटेबापूनेभगवानकेजन्मसेजुड़ेकईप्रसंगोंकावर्णनकिया।कृष्णऔरसुदामाकीमित्रताकावर्णनकरतेहुएउन्होंनेकहाकिसंसारमेंसबसेपवित्ररिश्तामित्रताकाहै।समयआनेपरहमेशाअपनेमित्रोंकासहयोगकरनाचाहिए।इसअवसरपरमंदिरपरिसरकोआकर्षकसाजसज्जाकरगुब्बारोंवफूलोंसेसजायागया।सुंदरबधाईभजनोंपरभक्तगणखूबथिरके,बधाईमेंमाखन-मिश्रीकाभोगलगालुटायागया।सातवेंदिनकीकथाश्रवणसेमिलताहैसंपूर्णफल

खुसरूपुर।नगरकेगणेशस्थानस्थितकृष्णचंद्रटिबड़ेवालकेआवासीयपरिसरमेंसोनूपंडाकेसानिध्यमेंतीनमार्चसेनौमार्चतकप्रतिदिनश्रीमद्भागवतकथाकाआयोजनकियागया।कथाकेसप्तमदिवसपरकथावाचकनेश्रीकृष्णऔरसुदामाकीमित्रताकीसुंदरकथाश्रोताओंकोसुनाई।कथाकीशुरुआतमेंउन्होंनेकहाकिसप्तमदिवसपरसुनीहुईकथाआपकोसंपूर्णभागवतकथाकाफलदेतीहै।येहमारेकरोड़ोंजन्मोंकापुण्यहीहैकिहमेंश्रीमद्भागवतकथासुननेकाअवसरमिला।आयोजनमेंअजयकुमारटिबड़ेवाल,लक्ष्मीटिबड़ेवाल,विजयटिबड़ेवाल,अमितकुमार,राघव,पोनु,अशोकआदिनेसक्रियभूमिकानिभाई।

Previous post बोलेरो के चपेट में आने से बाइक
Next post महिला समेत दो की मौत, नहीं हो