'सिया' और 'रंभा' की चीत्कार बता रही बाढ़ की कहानी

मोतिहारी।बाढ़सेघिरेमोतिहारीप्रखंडकेनौरंगियागांवकेबीचपहुंचनेकेसाथबाढ़मेंमौतकितनीभयावहहोतीहैसाफनजरआनेलगताहै।हालांकि,उसव्यक्तिकाशवअभीउसकेदरवाजेतकनहींपहुंचाथाजिसकीमौतबाढ़केपानीमेंबहकरहोगई।दरअसलरविवारकोनौरंगियानिवासीरामअयोध्यासाहशामकेचारबजेशौचकेलिएघरसेनिकले।जैसेहीवेगांवकेबाहरपहुंचेपानीकीतेजधाराकीचपेटमेंआकरबहनेलगे।गांवकेलोगोंनेदेखातोशोरहुआ।लेकिन,पानीकीतेजधाराकेआगेलोगलाचारहोगए।लोगोंनेवहांसेअपनेनेताऔरप्रशासनिकअधिकारियोंकोफोनकिया।परंतु,मददनहींमिली।सोमवारकीसुबहसेहीयहबातगांवमेंफैलगईकिरामअयोध्यामरगए।शवनहींमिलाथासोघरकेलोगोंकोयकीनथाकिवेमिलजाएंगे।घरकरीबहूरंभादेवीऔरबेटीसियादेवीरोरहींथी।पूरीरातरोतीरहींऔरपुत्ररमाकांतसाह,रामाधारसाहऔरराधाकांतसाहलगातारअपनेपिताकीखोजमेंलगेरहे।इसबीचरातमेंकुछनहींहोपाया।सोमवारकीसुबहगुलरियागांवस्थितएकबांसवाड़ीमेंफंसाउनकाशवमिला।शवमिलनेकीसूचनाजैसेहीफैलीघरकेबच्चोंकाबुराहालहोगया।रंभादेवीऔरसियादेवीदरवाजेपरबैठरोनेलगी।उनकेचीत्कारपरपूरेगांवकेलोगपहुंचेऔरपरिवारकोसंभालनाशुरूकिया।ग्रामीणरंभूप्रसादयादवनेकहा-इसरकारीसिस्टमकेफेरमेंजानचलगइल।

गांवकेलोगोंनेकीनावकीमांग

नौरंगियाकेलोगोंनेजिलाप्रशासनसेइसगांवकोनाववबोटदेनेकीमांगकीहै।ग्रामीणयमुना,हरिओमबतातेहैंकियहांसेलेकरबहुअरीकेबीच11किलोमीटरदूरीकासफरअबआसाननहींहै।पानीअभीभीसड़कपरहै।लोगदाने-दानेकोमोहताजहैं।यदिप्रशासनिकस्तरपरनावयाबोटनहींपहुंचाईगईतोलोगोंकोभारीमुश्किलहोगीऔरलोगभूखवबीमारीसेमरनेलगेंगे।

Previous post सोशल मीडिया पर निजी जानकारी श
Next post अलीगढ़ में बाइक को बस ने रौंदा