सपनों को डायरी में लिखा और अंतरराष्ट्रीय फलक पर चमक गई जींद की बेटी

इंटरनेशनलयूथकांफ्रेंसकीडायरेक्टरचुनीगईजींदकेगांवदेवरड़कीबेटी

ग्लोबलहेल्थलीडरबननाचाहतीहैडा.प्रियंका,हार्वर्डसेरिसर्चकरनालक्ष्य

कर्मपालगिल,जींद:

सपनेबड़ेहोंतोरास्तेखुदबनतेचलेजातेहैं।जींदकेछोटेसेगांवदेवरड़कीबेटीप्रियंकाभीस्कूलमेंपढ़तेसमयबड़ेसपनेदेखतीथी।तबदोस्तहंसतेथे।लेकिनअबप्रियंकानेअंतरराष्ट्रीयस्तरपरअपनीधमकदिखानीशुरूकरदीहै,तोउन्हींदोस्तोंकोउसपरगर्वमहसूसहोरहाहै।बीतेदिनोंप्रियंकाकोइंटरनेशनलयूथकांफ्रेंसकीडायरेक्टरचुनागयाहै।

किर्गिजस्तानरिपब्लिकमेंचारसालपहलेमेडिकलकीपढ़ाईकरनेगईडा.प्रियंकाचहलनेदैनिकजागरणसेबातचीतमेंकहाकिउसने11वींतककीपढ़ाईगांवफरमाणासेऔर12वींगांवब्राह्मणवासकेस्कूलसेकी।स्कूलमेंवहअन्यसहपाठियोंसेअलगथी।उसकालक्ष्यजिदगीमेंकुछअलगहटकरकरनाऔरबड़ाकरनाथा।उसकासपनाथाकिजिदगीमेंऊंचीउड़ानभरकरसफलताकीऊंचाइयोंकोछूकरइलाकेकानामरोशनकरूं।इसलिएवहअपनेसपनोंकोएकडायरीमेंलिखतीरहतीथी।तबसहपाठीकहतेथेकिचुपचापपढ़ाईकरले।कुछनहींरखाइनबड़ी-बड़ीबातोंमें।लेकिनमम्मी-पापाहमेशाहौसलाबढ़ातेथे।पापाराजेंद्रसिंहगेस्टटीचरहैं,जबकिमम्मीप्रवीनकुमारीनिजीस्कूलमेंटीचरहैं।12वींकेबादकिर्गिजस्तानमेंएमबीबीएसकीपढ़ाईकरनेकेलिएआई।यहांआतेहीपढ़ाईकेसाथवालंटियरऔररिसर्चभीशुरूकरदी।बीतेसालसितंबरमेंबेस्टस्टूडेंटआफसीआइएस(कामनवेल्थआफइंडिपेंडेंटस्टेटस)औरदिसंबरमेंयंगसाइंटिस्टआफसीआइएसकाअवार्डदियागया।इसकेअलावाबेस्टस्टूडेंटआफकिर्गिसरिपब्लिककेअवार्डसेभीनवाजागया।सीआइएसदेशोंमेंविज्ञानऔरशिक्षाकेविकासमेंउनकेयोगदानकेलिएशिक्षामंत्रालयनेप्रतिष्ठितपदकऔरप्रथमडिग्रीडिप्लोमासेसम्मानितकिया।डा.प्रियंकाकहतीहैंकिऊंचाउड़नेकेलिएशिक्षानेउसकेपंखोंकोमजबूतीदीहै।इसलिएअबवहकईअंतरराष्ट्रीयसंगठनोंकेसाथमिलकरवूमनइम्पावरमेंटपरभीकामकररहीहैं।अमेरिकाकेफ्लोरिडामेंस्थितवूमनएंबेसडरफोरम2021नेप्रियंकाकोविश्वकी200वूमनलीडर्सऔरपहलीपीढ़ीकेकार्यकर्ताओंमेंचयनितकिया।अबउसेइंटरनेशनलयूथकांफ्रेंसकीडायरेक्टरचुनागयाहै,जिसकामुख्यालयअमेरिकाकेबोस्टनमेंहै।उम्मीदहैकिजल्दहीयहकांफ्रेंसहोगी।एमबीबीएसकीपढ़ाईपूरीकरनेकेबादउसकालक्ष्यहार्वर्डयूनिवर्सिटीमेंदाखिलालेकरहेल्थकेक्षेत्रमेंरिसर्चकरनाहै।वहग्लोबलहेल्थलीडरबननाचाहतीहै।

अंतरराष्ट्रीयस्तरपरमहिलासशक्तीकरणऔरहेल्थलीडरकेरूपमेंकामकरनेकालियानिर्णय

डा.प्रियंकाबतातीहैंकिअपनेअतीतकीतरफझांककरदेखतीहूंतोबड़ीखुशीहोतीहै।शिक्षानेहीमुझेअपनीवास्तविकक्षमताकापतालगानेकीअनुमतिदी।औपचारिकशिक्षाप्राप्तकरनेसेमेरेगांवकेबाहरविशालदुनियाकेलिएमेरीआंखेंखुलगईंऔरइसनेमुझेसिखायाकिएकगांवकीलड़कीपरिवारसेमजबूतसमर्थनकेजरिएकाफीकुछकरसकतीहै।जबकिमेरीसहपाठिनकईबच्चोंकीमांबनचुकीहैं।अबमैंसोचतीहूंकिवेभीउच्चशिक्षाग्रहणकरतीतोइतनीजल्दगृहस्थीमेंनहींउलझती।इसलिएअंतरराष्ट्रीयस्तरपरमहिलासशक्तीकरणऔरहेल्थलीडरकेरूपमेंकामकरनेकानिर्णयलियाहै।कुछमाहपहलेनईदिल्लीकेपहचानएनजीओनेभीप्रियंकाकोयुवामहिलानेतृत्वऔरअधिकारिताकेलिए12वांराजीवगांधीउत्कृष्टतापुरस्कारदियाहै।

कोविडपरबड़ीरिसर्चकाहिस्साबनीं

डा.प्रियंकाचहलनेयूथवैक्सीनट्रस्टग्लोबलरिपोर्टअगस्त2021केतहतयुवालोगोंद्वाराकोविड-19केसबसेबड़ेशोधअध्ययनमेंकामकिया।ग्लोबलयूथवैक्सीनट्रस्टप्रोजेक्टयहपहचाननेकाप्रयासकरताहैकिदुनियाभरकेयुवाकैसेकोविड-19केखिलाफटीकाकरणकेबारेमेंनिर्णयलेरहेहैं।युवाशोधकर्ताऔरवैश्विकस्वास्थ्यअधिवक्ताकेरूपमेंप्रियंकानेविश्वस्वास्थ्यसंगठनद्वाराग्लोबलएंडट्यूबरकुलोसिसकार्यक्रमकेलिएयुवासलाहकारकेरूपमेंभीभागलिया।वहपेंसिल्वेनियासंयुक्तराज्यअमेरिकामेंस्थितएसएनओ/टीयूएफएचअंतरराष्ट्रीयस्वास्थ्यनेटवर्कमेंयूरोपक्षेत्रीयप्रतिनिधिकेरूपमेंकार्यकरतीहैं।वहयूरोपीयआयोगमेंयूरोपीयसंघजलवायुसंधिराजदूतकेरूपमेंभीसेवाकररहीहैं।

Previous post राष्ट्रीय फलक पर मिली नकटीदेई
Next post हादसे में दो युवक घायल