तल्ला भैंस्कोट गांव ने ठाना है कोरोना को हराना है

संवादसूत्र,नाचनी(पिथौरागढ़):कोरोनासंक्रमणतेजीसेबढ़रहाहै।महानगरोंसेहोतेहुएसंक्रमणगांवोंतकपहुंचचुकाहै।ऐसेमेंकईगांवोंकेग्रामीणसजगहोकरकोरोनाकोलेकरगंभीरहैं।ऐसाहीएकगांवविकासखंडमुनस्यारीकाभुजगड़नदीघाटीमेंस्थिततल्लाभैंस्कोटहैजहांगांवोंकीमहिलाओंनेगांवकोकोरोनासंक्रमणसेबचानेकेलिएकमरकसीहै।महिलाग्रामप्रधानकेनेतृत्वमेंगांवकीआशाऔरआंगनबाड़ीकार्यकर्तानेअनुशासनबनायाहै।इसीअनुशासनकेतहतगांवमेंगतिविधियोंहोरहीहैं।

गांवमेंप्रवेशकरनेवालोंपरपैनीनजररखीजातीहै।समय-समयपरपूरेगांवकोसैनिटाइजकियाजाताहै।नाचनीकस्बेसेलगभगनौकिमीकीदूरीपरभुजगड़नदीघाटीकातल्लाभैंस्कोटगांवमेंलगभगअस्सीपरिवाररहतेहैं।गांवकीआबादीलगभगसातसौकेआसपासहै।गांवकेकुछलोगबाहरकार्यकरतेहैं।इसवर्षकेवलतीनलोगगांवलौटेहैं।इनसभीकोक्वारंटाइनकियागयाहै।आगनबाड़ीकार्यकर्ताकेजिम्मेगांवकोसैनिटाइजकरानाहैतोआशाकार्यकर्ताक्वारंटाइनकिएगएग्रामीणोंकेस्वास्थ्यकाध्यानरखतीहै।ग्रामप्रधानक्वारंटाइनमेंरखेगएलोगोंकेभोजनकीव्यवस्थाकरतीहैं।

गांवकेयुवासमाजसेवीकोरोनासेबचावकेलिएघर-घरजाकरलोगोंकोजागरूककरतेहैं।विशेषकरसफाईकोलेकरसावधानकियाजाताहै।सभीघरोंकेबाहरपानीकीबाल्टी,साबुनरखागयाहै।निर्धारितसमयपरसभीकोहाथधोनेपड़तेहैं।इसगांवकीसबसेबड़ीविशेषतायहहैकिगतवर्षबाहरकार्यकरनेवाले28प्रवासीगांवलौटेऔरफिरगांवमेंहीस्वरोजगारकरनेलगे।इसबारकेवलतीनप्रवासीआएहैंअन्यकेगांवआनेपरउनकेक्वारंटाइनकीभीव्यवस्थातयकीगईहै।आंगनबाड़ीकेंद्रऔरपंचायतघरकोक्वारंटाइनकेलिएतैयाररखागयाहै।

बीतेवर्षकेकोरोनाकालकोदेखतेहुएग्रामीणोंनेबहुतकुछसमझाहै।इसमहामारीसेबचावकेलिएखुदकेप्रयाससबसेकारगरहैं।हमेंपूरागांवकोरोनासेमुक्तरखनाहै।जिसेदेखतेहुएगांवमेंअनुशासनतयकियागयाहै।कोईभीबाहरीव्यक्तिबेरोकटोकगांवमेंप्रवेशनहींकरसकताहै।ग्रामीणोंकोटीकाकरणकेलिएप्रोत्साहितकियाजारहाहै।

-मीनादेवी,ग्रामप्रधानतल्लाभैंस्कोट

फोटोफाइल:3पीटीएच07

गांवमेंआनेवालोंपरपैनीनजररखीजातीहै।समय-समयपरसैनिटाइजेशनकियाजाताहै।बाहरसेगांवमेंआनेवालोंसेउचितदूरीरखीजातीहै।ग्रामीणोंकोसंक्रमणसेबचावकेलिएहरतरहकीसावधानीबरतीजारहीहै।किसीभीतरहकाकोईखतरानहींउठानाहै।ग्रामीणोंकोसंक्रमणसेबचावकेलिएबरतीजानेवालेसावधानियोंकाअमलकरायाजाताहै।

-तारादशौनी,आंगनबाड़ीकार्यकर्ता,तल्लाभैंस्कोट

फोटोफाइल:3पीटीएच08

-----------बाहरसेआएलोगोंकेस्वास्थ्यपरविशेषनजररखीजातीहै।प्रतिदिनसुबह,दिनऔरसायंकोउनसेमिलकरउनकेस्वास्थ्यकाहाललेतेहैं।अतिआवश्यककार्यकेलिएहीकोईग्रामीणगांवसेबाहरजासकताहैउसकेलिएनियमोंकापालनआवश्यकहै।खेतोंमेंकार्यकरनेतथास्रोतोंसेपानीभरतेसमयभीउचितदूरीकापालनकरायाजाताहै।

-दीपाटोलिया,आशाकार्यकर्ता,तल्लाभैंस्कोट

फोटोफाइल:3पीटीएच09

गांवकीसुरक्षासबसेपहलेहै।खुदकोसुरक्षितरखतेहुएपूरेगांवकोकोरोनासेबचानाहै।जिसकेलिएगांवमेंसख्तनियमबनाएगएहैं।ग्रामीणोंकोकोरोनासेबचावकेलिएसमय-समयपरजानकारीदीजातीहै।सामाजिकदूरीकापालनकरनेतथासभीकोमॉस्कपहननेऔरटीकाकरणकेलिएप्रेरितकियाजाताहै।

-दुर्योधनसिंह,समाजसेवीतल्लाभैंस्कोट

फोटोफाइल:3पीटीएच10

Previous post युवक को मारा चाकू, नकदी लूटने
Next post गुरदासपुर हमला: आतंकवादी पठानक