विरोध के नाम पर मेरठ में इंसानियत शर्मसार, महिला मरीज पर किया हमला

सुप्रीमकोर्टद्वाराएससी/एसटीएक्टमेंकिएगएबदलावकोलेकरलोगोंमेंगुस्साहै.कईदलितसंगठनोंनेसोमवारकोभारतबंदबुलायाहै.देशभरमेंप्रदर्शनहिंसकहोताजारहाहै,जिसकाखामियाजाआमनागरिकोंकोभीभुगतनापड़रहाहै.

मुजफ्फरनगरसेअपनेदोबच्चोंऔरपतिकेसाथइलाजकेलिएगाजियाबादआरहीमहिलाकीकारपरलोगोंनेहमलाकरदिया.उत्तरप्रदेशकेमुजफ्फरनगरकीरहनेवाली46वर्षीयसवितासैनीकीदोनोंकिडनीखराबहैंऔरवोडायलिसिसकेलिएवैगनआरकारसेगाजियाबादआरहीथीं,लेकिनमेरठहाइवेएनएच58परपहुंचतेहीप्रदर्शनकारियोंनेउनकीकारपरहमलाकरदिया.

जानकारीकेमुताबिकविरोधकररहेएकगुटनेउनकीगाड़ीकोरुकवायाऔरलोहेकीरॉडसेउनकीकारकेशीशेतोड़दिए.सवितानेबतायाकि,'मेरीदोनोंकिडनीखराबहैंजिसकीवजहसेमुझेहर15दिनमेंडायलिसिसकरवानापड़ताहै,ऐसानहींकरनेपरमेरीजानतकजासकतीहै.डायलिसिसकरवानेकेलिएहीमैंसुबहअपनेपरिवारकेसाथकारसेनिकलीथीलेकिनरास्तेमेंहमारीकारतोड़दीगई.'सवितानेकहाकिविरोधकरनेकायेकोईतरीकानहींहै.अगरमुझेकुछहोजाताहैतोइसकीजिम्मेदारीकौनलेगा?मैंशुक्रगुजारहूंकिमेरेबच्चेसुरक्षितहैं.

बतादें,किमेरठपुलिसकोनिशानाबनानेवालेप्रदर्शनकारियोंनेयात्रियोंसेभरीदर्जनोंबसोंमेंतोड़फोड़की.इतनाहीनहींउन्होंनेएकपुलिसस्टेशनकोआगकेहवालेभीकरदिया.शहरमेंकानूनऔरव्यवस्थाकीस्थितिकोनियंत्रितकरनेकेलिएशहरमेंआरएएफकीदोकंपनियोंकोतैनातकियागयाहै.मेरठपुलिसने80प्रदर्शनकारियोंकोगिरफ्तारकियाहैऔर200सेज्यादालोगोंकोहिरासतमेंलियागयाहै.

Previous post महिलाओं की साक्षरता से ही शिक्
Next post महिला का वीडियो वायरल करने पर